ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसकोरोना से मोबाइल और लैपटॉप की किल्लत शुरू, बिक्री अब 70 से 75 फीसद तक पहुंची

कोरोना से मोबाइल और लैपटॉप की किल्लत शुरू, बिक्री अब 70 से 75 फीसद तक पहुंची

देश में कोरोना महामारी की बढ़ती अनिश्चितता और कामकाज के साथ साथ पढ़ाई लिखाई के बदलते तरीकों ने मोबाइल और लैपटॉप की बिक्री इतनी बढ़ा दी है कि बाजार में इसकी किक्लत शुरू हो गई है। हिन्दुस्तान को मिली...

कोरोना से मोबाइल और लैपटॉप की किल्लत शुरू, बिक्री अब 70 से 75 फीसद तक पहुंची
Drigraj Madheshiaनई दिल्ली। सौरभ शुक्ल Fri, 10 Jul 2020 09:09 AM
ऐप पर पढ़ें

देश में कोरोना महामारी की बढ़ती अनिश्चितता और कामकाज के साथ साथ पढ़ाई लिखाई के बदलते तरीकों ने मोबाइल और लैपटॉप की बिक्री इतनी बढ़ा दी है कि बाजार में इसकी किक्लत शुरू हो गई है। हिन्दुस्तान को मिली जानकारी के मुताबिक तमाम जगहों पर इन उत्पादों में पहले से चल रहे डिस्काउंट भी खत्म हो गए हैं और बढ़ती मांग के चलते दुकानदारों के लिए भी उसे पूरा करना मुश्किल होता जा रहा है। 

यह भी पढ़ें: 2164 रुपये सस्ता सोना यहां मिल रहा है, सर्राफा बाजार से भी कम दाम में खरीदें मोदी सरकार से Gold

अनलॉक में सुधरी बिक्री

इलेक्ट्रॉनिक्स रीटेल चेन विजय सेल्स के डायरेक्टर नीलेश गुप्ता ने हिंदुस्तान को बताया है कि जून महीने में कारोबार पहले जैसा सामान्य होना शुरु हो गया है। सबसे ज्यादा मांग स्मार्टफोन और लैपटॉप की हो रही है जिसे पूरा करना दिन पर दिन मुश्किल होता जा रहा है। उनके मुताबिक लॉकडाउन से बंद हुई बिक्री अब 70 से 75 फीसदी तक पहुंच गई है। 

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: ऑल टाइम हाई पर पहुंचा सोने का रेट, दिल्ली में सोना 50000 और चांदी 52000 के पार

नीलेश गुप्ता ने ये भी कहा कि शहरों में घरों पर नौकरों के न होने के चलते वाशिंग मशीन और डिश वॉशर जैसी चीजों की बिक्री काफी बढ़ी है। साथ ही मोबाइल के स्पेयरपार्ट्स को लेकर भी मुश्किल देखने को मिल रही है। चीन से आयात किया जाने वाला सामान कस्टम में फंसने के चलते पार्ट्स आने की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। वहीं टीवी, फ्रिज जैसी दूसरी चीजों की बिक्री में भी बढ़त देखी गई है।

मजबूरी में खरीदारी

ऑनलॉक शुरू होने के बाद भी तमाम दफ्तरों में वर्क फ्रॉम होम ही हो रहा है साथ ही जुलाई से बच्चों के स्कूल की ऑनलाइन पढ़ाई के चलते मोबाइल और लैपटॉप की जरूरत बढ़ गई है। दिल्ली के सफदरजंग एन्क्लेव में रहने वाले मनीष कुमार और उनकी पत्नी दोनों नौकरी करते हैं। उन्होंने बताया कि घर में एक लैपटॉप और समार्टफोन होने के बाद भी जुलाई के पहले हफ्ते में ही उन्हें बच्चों की ऑनलाइन पढ़ाई के चलते एक स्मार्टफोन और लैपटॉप खरीदना पड़ा है। साथ ही बच्चों के स्कूल से जुड़े प्रोजेक्ट पूरा  करने के लिए उन्हें प्रिंटर भी खरीदना पड़ा। उनके मुताबिक जो लैपटॉप कोरोना से पहले 30-35 फीसदी डिस्काउंट पर मिल करते थे उनपर अब न के बराबर ही छूट मिल रही है। 

यह भी पढ़ें: कानपुर: आठ पुलिसकर्मियों का हत्यारा विकास दुबे पुलिस एनकाउंटर में मारा गया, गाड़ी पलटने के बाद की थी भगाने की कोशिश

बढ़ते दाम पर लगाम लगे

एसोचैम के महासचिव दीपक सूद ने हिंदुस्तान को बताया कि मौजूदा दिनों में दुनियाभर मोबाइल और लैपटॉप की मांग पैदा हुई है वो अप्रत्याशित है। उनके मुताबिक ये मांग तुरंत पूरा कर पाना संभव नहीं है। ऐसे में इन चीजों के दामों में भी बढ़त देखने को मिल रही है। दीपक सूद को कई जगहों से फीडबैक मिल रहा है कि दुकानों पर इमर्जेंसी हालात में मोबाइल, लैपटॉप के साथ साथ सैनेटाइजर, मास्क जैसी जरूरी चीजों को भी मनमाने दाम पर बेचा जा रहा है। ऐसे में राज्य सरकारों को महामारी के दौर में ग्राहकों के हित की रक्षा करनी चाहिए।

epaper