DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसमंडी भाव: दीपावाली के बाद और बढ़ेगी सरसों की किल्लत, सरसों कच्ची घानी 2905 रुपये प्रति टिन पर पहुंची

मंडी भाव: दीपावाली के बाद और बढ़ेगी सरसों की किल्लत, सरसों कच्ची घानी 2905 रुपये प्रति टिन पर पहुंची

एजेंसी,नई दिल्लीDrigraj Madheshia
Fri, 22 Oct 2021 08:17 AM
मंडी भाव: दीपावाली के बाद और बढ़ेगी सरसों की किल्लत, सरसों कच्ची घानी 2905 रुपये प्रति टिन पर पहुंची

विदेशी बाजारों में कमजोर रुख के बीच दिल्ली में गुरुवार को सोयाबीन तेल-तिलहन, पामोलीन और सीपीओ तेल कीमतों में गिरावट आई, जबकि जयपुर में सरसों के भाव 150 रुपये मजबूत होने से सरसों तेल-तिलहन में तेजी रही। मूंगफली और बिनौला सहित विभिन्न खाद्य तेल-तिलहन के भाव पूर्ववत बने रहे।

जयपुर के हाजिर बाजार में सरसों का भाव बृहस्पतिवार को लगभग 150 रुपये मजबूत हो गया जिससे इसके तेल तिलहन के भाव में सुधार देखने को मिला। मलेशिया एक्सचेंज में कमजोरी की वजह से कच्चा पामतेल (सीपीओ) और पामोलीन तेल के भाव में गिरावट आई, जबकि वायदा कारोबार में भाव टूटने से सोयाबीन तेल तिलहन के भाव भी कमजोर बंद हुए। वायदा कारोबार में सोयाबीन के नवंबर डिलिवरी वाले अनुबंध का भाव पहले के मुकाबले लगभग 33 रुपये टूटा है जिसके कारण सोयाबीन तेल-तिलहनों पर दबाव रहा।

दीपावाली के बाद और बढ़ेगी सरसों की किल्लत
 
बाजार सूत्रों ने कहा कि सरसों की किल्लत बनी हुई है जो आगे जाकर दीपावाली के बाद और बढ़ेगी। दूसरी ओर मंडियों में सरसों की आवक लगातार कम हो रही है और आगे चलकर यह आवक घटकर 50-60 हजार बोरी रह जाने की आशंका है, जबकि रोजाना की औसत मांग 3-3.5 लाख बोरी की है। व्यापारियों और मिलर्स के पास इसका कोई स्टॉक नहीं है और थोड़ा बहुत स्टॉक किसानों के पास ही रह गया है। 

बेमौसम बरसात से किसान तबाह

इसके अलावा हाल की बेमौसम बरसात ने  किसानों को तबाही के कगार पर ला दिया है। हालत यह है कि जिन किसानों ने बुवाई कर रखी थी, उन्हें दोबारा से इसकी बुवाई करनी होगी, जिससे अगली फसल आने में एक महीने की और देर होने की संभावना बढ़ गई है। इस बीच सलोनी शम्साबाद में सरसों के दाम 9,350 रुपये क्विन्टल पर पूर्ववत रखा गया है। 

सरसों तेल की उत्पादन लागत 203 रुपये किलो

सूत्रों ने कहा कि सलोनी में सरसों दाना की खरीद लागत अधिभार सहित 93.50 रुपये किलो के लगभग बैठती है। इसके पेराई की लागत 2.5 रुपये किलो बैठती है। एक क्विन्टल सरसों में 62 किलो खली के अलावा लगभग 36.5 किलो तेल निकलता है। इसके लगभग 2,000 रुपये क्विन्टल के खली का भाव हटा दिया जाए तो प्रति किलो सरसों तेल की लागत 192-193 रुपये किलो बैठती है और उसके ऊपर जीएसटी शुल्क अलग से है। कुल मिलाकर सरसों तेल की उत्पादन लागत 202 से 203 रुपये किलो बैठता है।

     दिल्ली मंडी में थोक भाव इस प्रकार रहे-  (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

  •      सरसों तिलहन - 8,920 - 8,950  (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।
  •      मूंगफली - 6,285 -  6,370 रुपये।
  •      मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 14,300 रुपये।
  •      मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,080 - 2,210 रुपये प्रति टिन।
  •      सरसों तेल दादरी- 18,100 रुपये प्रति क्विंटल।
  •      सरसों पक्की घानी- 2,720 -2,760 रुपये प्रति टिन।
  •      सरसों कच्ची घानी- 2,795 - 2,905 रुपये प्रति टिन।
  •      तिल तेल मिल डिलिवरी - 15,500 - 18,000 रुपये।
  •      सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 14,050 रुपये।
  •      सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,650 रुपये।
  •      सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,550
  •      सीपीओ एक्स-कांडला- 11,300 रुपये।
  •      बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,950 रुपये।
  •      पामोलिन आरबीडी, दिल्ली-  13,050 रुपये।
  •      पामोलिन एक्स- कांडला- 11,900  (बिना जीएसटी के)।
  •      सोयाबीन दाना 5,375 - 5,575, सोयाबीन लूज 5,125 - 5,225 रुपये।
  •      मक्का खल (सरिस्का) 3,825 रुपये।
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें