DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  सोने पर अनिवार्य हॉलमार्किंग का आदेश चरणबद्ध तरीके से होगा लागू, 265 जिलों से होगी शुरुआत
बिजनेस

सोने पर अनिवार्य हॉलमार्किंग का आदेश चरणबद्ध तरीके से होगा लागू, 265 जिलों से होगी शुरुआत

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Wed, 16 Jun 2021 12:32 AM
सोने पर अनिवार्य हॉलमार्किंग का आदेश चरणबद्ध तरीके से होगा लागू, 265 जिलों से होगी शुरुआत

केंद्र सरकार के नए आदेश के मुताबिक अब सोने पर हॉलमार्किंग अनिवार्य कर दिया गया है। इसका मतलब यह हुआ कि अब ज्वैलर्स बिना हॉलमार्किंग वाले सोने की बिक्री नहीं कर पाएंगे। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने इस संबंध में मंगलवार को जानकारी दी है। केंद्रीय मंत्री ने बताया है कि यह आदेश बुधवार से ही लागू जाएंगे। इस आदेश को चरणबद्ध तरीके से पूरे देश में लागू किया जाएगा। शुरुआती तौर पर अभी देश के 256 जिलों में इस आदेश को लागू किया जाएगा। केंद्रीय मंत्री ने यह भी बताया है कि अगस्त 2021 तक किसी तरह की पेनाल्टी नहीं ली जाएगी। 

उपभोक्ता मामलों की सचिव लीना नंदन ने पीटीआई-भाषा से कहा, 'सोने पर अनिवार्य रूप से हॉलमार्किंग की व्यवस्था बुधवार 16 जून, 2021 से लागू होने जा रही है।' उन्होंने कहा कि इसे चरणबद्ध तरीके से लागू किया जाएगा और शुरू में 256 जिलों में इसे क्रियान्वित किया जाएगा। जहां मूल्यवान धातु की शुद्धता की जांच के लिये केंद्र हैं। उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल की अध्यक्षता में उद्योग जगत के साथ बैठक में इसका फैसला लिया गया है। बैठक के बाद जारी एक बयान में कहा गया है कि 40 लाख रुपये तक के सालाना कारोबार वाले आभूषण निर्माताओं को अनिवार्य हॉलमार्किंग से छूट दी जाएगी।

बता दें कि हॉलमार्किंग की व्यवस्था होने से सबसे ज्यादा फायदा उपभोक्ताओं को होता है। इससे ग्राहक सोने की खरीदारी के वक्त होने वाली धोखाधड़ी से बच जाते हैं। केंद्र सरकार ने ज्वैलरी बेचने के लिए नई व्यवस्था को लागू करने के लिए एक समिति भी बनाई है। यह समिति इस व्यवस्था को लागू करने में आने वाली दिक्कतों को भी सुलझाने का काम करेगी। हॉलमार्किंग अनिवार्य हो जाने के बाद अब सिर्फ 22 कैरेट, 18 कैरेट और 14 कैरेट की ज्वैलरी ही बिकेगी। अगर कोई भी ज्वैलर बिना हॉलमार्किंग के गोल्ड ज्वैलरी बेचता पाया जाता है तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इसके तहत दोषी पर एक साल की जेल के अतिरिक्त उस पर गोल्ड ज्वैलरी की वैल्यू की पांच गुना तक पेनल्टी भी लगाई जा सकती है। 

बता दें कि हर कैरेट के सोने के लिए हॉलमार्क नंबर अंकित किए जाते हैं। ज्वैलर्स की ओर से 22 कैरेट के लिए 916 नंबर का इस्तेमाल किया जाता है। 18 कैरेट के लिए 750 नंबर का इस्तेमाल करते हैं और 14 कैरेट के लिए 585 नंबर का उपयोग किया जाता है। इन अंकों के जरिए आपको पता चल जाएगा कि सोना कितने कैरेट का है। केंद्र सरकार ने नवंबर 2019 में गोल्ड ज्वैलरी के लिए गोल्ड हॉलमार्किंग नियमों का ऐलान किया था, इन नियमों को जनवरी 2021 से पूरे देश में लागू किया जाना था। लेकिन कोरोना महामारी की वजह से ज्वेलर्स ने सरकार से मोहलत मांगी और डेडलाइन बढ़ती चली गई। 

संबंधित खबरें