DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › जीवन बीमा: टर्म प्लान लेने से पहले 5 बातों का ख्याल रखें
बिजनेस

जीवन बीमा: टर्म प्लान लेने से पहले 5 बातों का ख्याल रखें

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Tue, 27 Jul 2021 02:25 PM
जीवन बीमा: टर्म प्लान लेने से पहले 5 बातों का ख्याल रखें

अनिश्चताओं का सामना करने के लिए लोग टर्म इंश्योरेंस का सहारा लेते हैं। अगर आप टर्म इंश्योरेंस लेने की योजना बना रहे हैं तो कुछ बातों का ख्याल रखें। कोई भी टर्म प्लान लेने से पहले मिलने वाली कवर की राशि, पॉलिसी की अवधि, प्रीमियम आदि की जानकारी जरूर जुटा लें।  टर्म इंश्योरेंस में मरणोपरांत परिवार की वित्तीय सुरक्षा, टैक्स की बचत, गंभीर बीमारी, दुर्घटना में मृत्यु जैसी स्थिति में अतिरिक्त लाभ मकलता है। टर्म प्लान के अगर प्रकार की बात करें तो प्योर टर्म प्लान, रिटर्न ऑन प्रीमियम टर्म प्लान और इनकम बेनिफिट्स वाला टर्म प्लान आते हैं।

1. सबसे पहले तय करें कवर राशि

टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने से पहले कवर की राशि का चयन करना सबसे महत्वपूर्ण काम होता है। यह व्यक्ति पर निर्भर करता है कि उसको कितने न्यूनतम कवर की जरूरत है ।  थंब रूल के हिसाब से चलें तो नौकरीपेशा लोगों को अपनी सालाना आय से 10 गुना कवर लेना चाहिए और साथ ही बढ़ती आमदनी के साथ इसे बढ़ाते रहना चाहिए।  आप कवर की राशि की गणना ऑनलाइन भी कर सकते हैं। बहुत सारे ऑनलाइन टूल्स उपलब्ध हैं, जिसमें आप अपनी आय, पेशा के अनुसार कवर की राशि की गणना कर सकते हैं।

2. पॉलिसी की अवधि बहुत महत्वपूर्ण

टर्म प्लान के चयन में पॉलिसी की अविध का चयन करना दूसरा सबसे महत्वपूर्ण काम है। अगर आप कम उम्र में पॉलिसी ले रहे हैं तो सबसे लंबी अवधि की पॉलिसी का चुनाव करें। इससे आपको कम प्रीमियम में पॉलिसी खरीदने का भी मौका मिल जाएगा।

3. टर्म प्लान  ऑनलाइन या ऑफलाइन खरीदें?

टर्म पॉलिसी की खरीदारी आप एजेंट या ऑनलाइन कर सकते हैं। अगर आप सीधे कंपनी की वेबसाइट या एग्रिगेटर वेबसाइट के माध्यम से करते हैं तो आपको कम प्रीमियम देना भी पड़ सकता है। वहीं, एजेंट से लेने पर अधिक प्रीमियम देना होगा।

4. कंपनी का चुनाव किस आधार पर करें

टर्म इंश्योरेंस पॉलिसी की खरीदारी से पहले अच्छी कंपनी का चुनाव बहुत जरूरी है। किसी भी कंपनी से पॉलिसी लेने से पहले उसके क्लेम रिकॉर्ड रेश्यो को जरूर चेक करें। इसके साथ ही उस कंपनी की वित्तीय स्थिति को भी पता करें। इसके साथ कंपनी की सर्विस, भुगतान के तरीके आदि का भी ध्यान रखें।

5. राइडर का विकल्प

टर्म प्लान के बाद भी यह संभावना भी रहती है कि पॉलिसी धारक किसी दुर्घटना के कारण विकलांगता का शिकार हो जाए या फिर वो अपनी सुनने की शक्ति खो दे। ऐसी सूरत में वित्तीय सुरक्षा के लिए राइडर भी लेना चाहिए। हालांकि, इसके लिए आपको अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करना होता है।

 

संबंधित खबरें