DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

1 अप्रैल से बनाए सेविंग का ‘टाइम टेबल’, जानें कैसे करें तैयारी 

नया वित्तीय वर्ष एक अप्रैल से शुरू होने जा रहा है। ऐसे में यह माह आपके लिए वित्तीय योजना बनाने की दृष्टि से काफी महत्वूपर्ण होगा। आप इस महीने में अपनी आय के अनुसार कर बचत के लिए निवेश की योजना बना सकते हैं। साथ ही आप अपनी निवेश सूची का आकलन कर भविष्य की जरूरतों के लिए बेहतर निवेश भी कर सकते हैं। ऐसा कर आप आने वाली जरूरतों के लिए पैसे का प्रबंध आसानी से कर लेंगे।

कर बचत के लिए निवेश शुरू करें : वित्तीय वर्ष शुरू होने के साथ आप अगर कर बचत के लिए निवेश शुरू कर देते हैं तो यह आपको कई तरह के फायदे पहुंचाता है। आप अपनी जरूरत के अनुसार सही निवेश माध्यम का चुनाव कर पाते हैं। इससे आपके किए निवेश पर शानदार रिटर्न भी मिलता है और अच्छी कर बचत भी होती है। वहीं जो लोग अपने कर बचत योजना को लागू करने के लिए वित्तीय वर्ष के आखिरी कुछ दिनों का इंतजार करते हैं, वे अक्सर गलतियां कर बैठते हैं। 

कैसे करें वित्तीय प्लानिंग : हर व्यक्ति के जीवन में विभिन्न लक्ष्य होते हैं जैसे बच्चों की पढ़ाई-शादी, घर-कार खरीदना, विदेश घमूने जाना, रिटायरमेंट आदि। इन लक्ष्यों का सही आकलन कर इनकी सूची बनाएं और अपनी आय के अनुसार निवेश शुरू करें। निवेश माध्यम का चुनाव जोखिम वहन क्षमता अर्थात वित्तीय रूप से रिस्क लेने की क्षमता के आधार पर करें। छोटे निवेशक पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि, म्यूचुअल फंड में निवेश कर कम जोखिम में अच्छा रिटर्न ले सकते हैं। 

31 मार्च तक फाइल कर ITR, नहीं तो भरनी पड़ेगी 25 लाख तक की पेनल्टी

एक ही माध्यम की आदत छोड़ें : वित्तीय विशेषज्ञों के अनुसार, ज्यादातर मामलों में यह देखने को मिलता है कि छोटे निवेश एक ही एसेट क्लास में निवेश करते हैं। इस प्रकार वह अच्छा प्रर्दशन करने वाले एसेट क्लास से वंचित रह जाता है। 

निवेश से पहले उद्देश्य तय नहीं : अधिकांश छोटे निवेश निवेश करने से पहले अपना उद्देश्य तय नहीं करते हैं। वह बिना किसी भेद-भावके सभी निवेश माध्यमों में निवेश कर देते हैं। निवेश से पहले सही प्लान वित्तीय लक्ष्यों पाने में मददगार होता है। 

इंश्योरेंस लेना है जरूरी : विशेषज्ञों के अनुसार, पोर्टफोलियों में इंश्योरेंस कवर जरूरत के हिसाब से होना चाहिए। हर किसी को अपने परिवार और खुद के जरूरत के अनुसार टर्म प्लान, हेल्थ प्लान और क्रिटिकल इलनेस प्लान को शामिल करना चाहिए। 

इनकम टैक्स के नियम जानें : नया आयकर नियम 1 अप्रैल से लागू हो रहा हैं, जिनकी इस बार के अंतरिम बजट में घोषणा की गई थी। आपको आयकर नियमों में हुए बदलाव के मुताबिक अपनी कर देनदारी के अनुसार निवेश करने की कोशिश करनी चाहिए।

जानें कहां बचा सकते हैं पैसा, निवेश के लिए बचे हैं सिर्फ 4 दिन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know how to make saving plan after 1st april with new financial year