DA Image
24 जून, 2020|10:45|IST

अगली स्टोरी

दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही जेट एयरवेज ने विदेश में फंसे भारतीयों को लाने के लिए दो बोइंग विमानों की पेशकश की

jet airways

नकदी संकट के चलते एक साल से अधिक समय से अपनी सेवाओं को निलंबित कर चुकी विमानन कंपनी जेट एयरवेज ने वंदे भारत मिशन के तहत विदेश में फंसे भारतीयों को भारत लाने के लिए अपने दो बोइंग विमानों की पेशकश की है। कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय को लिखे एक पत्र में यह पेशकश की गयी है।   विमानन कंपनी इस समय दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही है और इसके मामलों का प्रबंधन दिवालिया समाधान पेशेवर आशीष छावछरिया कर रहे हैं। कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय दिवाला एवं ऋण शोधन अक्षमता संहिता (आईबीसी) लागू कर रहा है।

यह भी पढ़ें: SC की फटकार, क्या कोरोना को पता है उसे विमान में संक्रमण नहीं फैलाना?

छावछरिया ने दो विमानों की पेशकश के अलावा इन उड़ानों के लिए धन की आवश्यकता का भी उल्लेख किया है। उन्होने 20 मई को कॉरपोरेट मामलों के सचिव इंजेती श्रीनिवास को लिखे एक पत्र में कहा कि वंदे भारत मिशन के लिए दो बोइंग 777-300 ईआर का इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ''आपकी इच्छानुसार, मैंने यह मूल्यांकन किया है कि जेट एयरवेज अपने बोइंग 777-300 ईआर विमान बेड़े के जरिए विभिन्न देशों में (कोविड-19 महामारी के कारण) फंसे भारतीयों को निकालने के लिए भारत सरकार (वंदे भारत मिशन के तहत) की सहायता कर सकता है।

यह भी पढ़ें: फ्लाइट से 5 साल का बच्चा दिल्ली से अकेले बेंगलुरु पहुंचा

पत्र में लिखा है, ''प्रारंभिक आकलन के आधार पर मुझे पूरा विश्वास है कि वंदे भारत मिशन में भाग लेने के लिए जेट एयरवेज दो बोइंग 777-300 ईआर विमान के साथ शुरुआत कर सकता है, जिसे चार विमानों तक बढ़ाया जा सकता है। इस पेशकश की वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी नहीं मिल सकी है। श्रीनिवास और छावछरिया टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं थे। इस समय जेट एयरवेज के पास 12 विमान हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jet Airways undergoing insolvency process offers two Boeing aircraft to bring stranded Indians abroad