DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जेट एयरवेज के कर्जदाताओं को 4 जुलाई तक दावे पेश करने के निर्देश

jet airways fare photo ht

निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज के निपटान पेशेवर ने कंपनी के कर्जदाताओं को अपने दावे चार जुलाई तक जमा कराने का निर्देश दिया है। पिछले सप्ताह जेट एयरवेज को दिवाला प्रक्रिया के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (NCLT) के पास भेजा गया है।

ठप खड़ी एयरलाइन पर भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले 26 बैंकों के गठजोड़ का 8,500 करोड़ रुपये का बकाया है। एयरलाइन को अपने सैकड़ों वेडरों और 23,000 के करीब कर्मचारियों का 13,000 करोड़ रुपये चुकाना है।

निपटान पेशेवर ग्रांट थॉर्नटन के आशीष छौछरिया ने सार्वजनिक सूचना में कहा, ''जेट एयरवेज के कर्जदाताओं को प्रमाण के साथ अपने दावे चार जुलाई तक अंतरिम निपटान पेशेवर के पास जमा कराने होंगे। वित्तीय ऋणदाताओ को अपने दावे प्रमाण के साथ इलेक्ट्रॉनिक तरीके से जमा कराने होंगे।

इसमें कहा गया है कि सभी ऋणदाताओं को व्यक्तिगत रूप से, डाक से या इलेक्ट्रॉनिक तरीके से अपने दावे प्रमाण के साथ जमा कराने होंगे। 25 मार्च से जेट एयरवेज के ऋणदाताओं के पास एयरलाइन की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है। ऋणदाताओं ने 17 जून को जेट एयरवेज के पुनरोद्धार का प्रयास छोड़ते हुए इसके मामले को दिवाला प्रक्रिया के तहत भेजने का फैसला किया था।

जेट एयरवेज का परिचालन 17 अप्रैल से बंद है। जेट एयरवेज के लिए एतिहाद हिंदुजा गठजोड़ की जो शुरुआती बोली मिली थी उसमें बैंकों से अपने बकाया कर्ज पर 90 से 95 प्रतिशत तक का नुकसान उठाने को कहा गया था। साथ ही इसमें खुली पेशकश के नियमों से भी छूट मांगी गई थी। बैंकों के लिए इस पर सहमत होना संभव नहीं था। एनसीएलटी ने 20 जूर को एसबीआई द्वारा एयरलाइन के खिलाफ दायर दिवाला याचिका को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया था।

जेट एयरवेज के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू, कंपनी पर 8000 करोड़ का कर्ज

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jet airways lenders have to submit claim by 4th July