DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनसीएलटी में जेट एयरवेज की आज सुनवाई, बैंकों को करनी है 8500 करोड़ की वसूली

jet airways airlines  jet airways twitter

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई में 26 बैंकों के गठजोड़ ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज के मामले को दिवाला संहिता के तहत कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में भेज दिया। न्यायाधिकरण इस पर बुधवार से सुनवाई करेगा। बैंकों को ठप पड़ी एयरलाइन से 8,500 करोड़ रुपये की वसूली करनी है। बैंकों के अलावा एयरलाइन पर उसे माल और सेवाएं देने वालों का 10,000 करोड़ रुपये और कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपये का बकाया है। जेट एयरवेज के कर्मचारियों की संख्या 23,000 है।

पिछले कुछ साल के दौरान जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है। इस तरह एयरलाइन पर कुल 36,500 करोड़ रुपये का बकाया है। बंबई शेयर बाजार में मंगलवार को जेट एयरवेज का शेयर 41 प्रतिशत टूटकर 40.45 रुपये पर आ गया। दिन में कारोबार के दौरान एक समय यह 52.78 प्रतिशत के नुकसान से 32.25 रुपये पर आ गया था।

जेट एयरवेज का शेयर 41 प्रतिशत टूटा
भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाली बैंकों के समूह द्वरा जेट एयरवेज के विरुद्ध  दिवालयापन प्रक्रिया शुरू करने का निर्णय के बाद मुगलवार को कंपनी के शेयरों में 41 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आई। कंपनी के ऋणदाताओं ने सोमवार को एयरलाइन के पुनरोद्धार के प्रयास को छोड़ने और इस मामले को दिवाला कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में भेजने की घोषणा की।

जेट एयरवेज का शेयर 52 प्रतिशत की जबरदस्त गिरावट के साथ दिन के सबसे निचले स्तर 32.25 प्रति शेयर पर पहुंच गया था। हालांकि, बाद में यह सुधर कर 40.48 फीसदी टूटकर 40.50 प्रति शेयर पर बंद हुआ। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के 8500 करोड़ ऋण के अलावा, विमानन कंपनी के ऊपर लगभग 15,000 करोड़ रुपये का ऋण है, जिसमें संचालन लेनदारों का बकाया भी शामिल है। जेट एयरवेज ने खराब वित्तीय हालत के बाद 17 अप्रैल को अपने सभी संचालन को बंद कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jet Airways Hearing in NCLT Today