DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Jet Airways crisis: जेट को रनवे पर लौटने में मदद करेगा डीजीसीए

जेट एयरवेज(रेउटर्स फोटो)

नकदी संकट से जूझ रही जेट एयरवेज को नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने नियामकीय दायरे में रहते हुए मदद का भरोसा दिया है। 
डीजीसीए ने गुरुवार को कंपनी को ठोस और विश्वसनीय पुनरोद्धार योजना मांगा। डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि डीजीसीए कंपनी से एक पुख्ता और भरोसेमंद योजना सौंपने को कहा है ताकि एयरलाइन का परिचालन फिर शुरू किया जा सके। कई सप्ताह तक चली अनिश्चितता के बाद जेट एयरवेज ने बुधवार को अपना परिचालन अस्थायी रूप से निलंबित करने की घोषणा की।

एयरलाइन ने बैंकों से आपात कोष मांगा था, लेकिन वित्तीय मदद नहीं मिलने के बाद उसके समक्ष परिचालन बंद करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा था। अधिकारी ने कहा कि नियामक संबद्ध नियमनों के तहत प्रक्रियाओं को पूरा करते हुए कदम उठाएगा। एक अधिकारी ने कहा कि डीजीसीए कंपनी से एक पुख्ता और भरोसेमंद योजना सौंपने को कह रहा है ताकि एयरलाइन का परिचालन फिर शुरू किया जा सके। 

ऋणदाताओं को बोली प्रक्रिया सफल रहने की उम्मीद

जेट के ऋणदाताओं ने हिस्सेदारी की बिक्री के लिए बोली प्रक्रिया के सफलतापूर्वक पूरी होने की  उम्मीद जताई है।  ऋणदाताओं  के बयान में कहा गया, काफी विचार-विमर्श के बाद ऋणदाताओं ने तय किया कि जेट एयरवेज के अस्तित्व को बचाने का सबसे अच्छा तरीका संभावित निवेशकों से पक्की बोलियां प्राप्त करना है, जिन्होंने ईओआई (रुचि पत्र) जमा कराया है और जिन्हें 16 अप्रैल को बोली दस्तावेज जारी किए थे। भारतीय स्टेट बैंक (सीबीआई) के नेतृत्व में 26 ऋणदाताओं के एक संघ ने संभावित निवेशकों से बोलियां मंगाई हैं।

जेट की उड़ानों को मिस करेंगे

जेट की उड़ानों को बंद होने पर यात्रियों ने कहा कि असुविधा के बावजूद वे जेट की उड़ानों को मिस करेंगे। लुधियाना निवासी अमरजीत सिंह ने कहा, मैं ज्यादातर जेट की उड़ान ही लेता हूं। बुधवार रात जब अमृतसर में मैं जेट की उड़ान पर सवार हुआ तो मुझे बताया गया कि यह एयरलाइन की आखिरी उड़ान है। सिंह ने दु:ख जाताते हुए कहा कि मुझे उम्मीद है कि एयरलाइन का परिचालन जल्द शुरू हो पाएगा।  एक अन्य यात्री शरीफ अब्दुल्ला ने कहा कि उन्हें दुख है कि एयरलाइन बंद हो रही है। अब्दुल्ला होटल श्रृंखला चलाते हैं। एयरलाइन की सेवाएं अचानक बंद होने से लोगों को परेशानी भी हुई। 

32 फीसदी से अधिक लुढ़के शेयर

जेट द्वारा परिचालन अस्थायी तौर पर बंद कर देने के बाद बंबई स्टॉक एक्सचेंज पर कंपनी के शेयरों में गुरुवार को बड़ी गिरवाट आई। बीएसई पर कंपनी का शेयर 32.23 फीसदी गिरकर 163.90 रुपये पर बंद हुआ। वहीं एनएसई पर कंपनी का शेयर 31 फीसदी गिरकर 165.75 रुपये पर बंद रहा। कंपनी के शेयरों में यह 52 हफ्तों की सबसे बड़ी गिरावट है। 

हवाई किराए में भारी बढ़ोतरी

जेट की उड़ानें पूरी तरह बंद होने से हवाई किरायों में तेज बढ़ोतरी हुई है। घरेलू मार्ग पर फ्लाइट्स टिकट 30 से 50 फीसदी महंगे हो चुके हैं। ऑनलाइन ट्रैवल साइट्स के मुताबिक घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्ग पर किरायों में 30 से 50 फीसदी का इजाफा दिख रहा है। घरेलू मार्ग पर मांग में बढ़ोतरी के मद्देनजर इंडिगो एयरलाइंस ने मुंबई और दिल्ली हवाई मार्ग पर अपनी उड़ानों की संख्या बढ़ाई है लेकिन इससे बहुत राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। 

बोलियां सफल नहीं तो एनसीएलटी आखिरी विकल्प

एविएशन विशेषज्ञों का कहना है कि अगर बैंकों द्वारा शुरू की गई बोली प्रक्रिया में सफलता नहीं मिलती है तो कंपनी के पास  राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में जाने का आखिरी विकल्प होगा। जेट की बोली प्रक्रिया 10 मई को पूरी होगी। 

विजय माल्या: जेट के लिए बुरा लगा, 100 फीसदी कर्ज चुकाने के लिए तैयार

मर्सिडीज-बेंज ने उठाया कॉन्सेप्ट SUV GLB से उठाया पर्दा, जानें कीमत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jet Airways crisis DGCA will help Jet to return to runway