DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ITC के चेयरमैन बने संजीव पुरी, कंपनी का Q4 में शुद्ध लाभ 18.72 फीसद बढ़ा

itc  photo by pti

विभिन्न क्षेत्रों में कारोबार करने वाले समूह आईटीसी लिमिटेड का एकल आधार पर शुद्ध लाभ 31 मार्च 2019 को समाप्त तिमाही में 18.72 प्रतिशत बढ़कर 3,481.9 करोड़ रुपये रहा। गत्ता, कागज, होटल तथा रोजमर्रा के उपयोग के सामान के कारोबार में अच्छी वृद्धि से कंपनी का लाभ बढ़ा है।

इससे पिछले वित्त वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में कंपनी को 2,932.71 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। कोलकाता की कंपनी ने कहा कि आईटीसी की कुल आय आलोच्य तिमाही में 14.26 प्रतिशत बढ़कर 12,946.21 करोड़ रुपये रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2017-18 की इसी तिमाही में 11,329.74 करोड़ रुपये थी।

कंपनी के अनुसार आलोच्य तिमाही में कृषि कारोबार में तिलहन, गेहूं और कॉफी में बेहतर कारोबार अवसर से आय में अच्छी वृद्धि हुई। इसके अलावा गत्ता तथा होटल क्षेत्र में अच्छी आय हुई। साथ ही रोजमर्रा के उपयोग के सामान के कारोबार में अच्छी वृद्धि से लभ पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा।

कंपनी के निदेशक मंडल ने 31 मार्च 2019 को समाप्त वित्त वर्ष के लिये 5.75 रुपये प्रति शेयर के लाभांश देने की भी सिफारिश की है। पूरे वित्त वर्ष 2018-19 में आईटीसी का एकीकृत लाभ 12,824.20 करोड़ रुपये रहा जो इससे पूर्व वित्त वर्ष में 11,485.10 करोड़ रुपये था। आलोच्य वित्त वर्ष में कंपनी की आय 52,035.90 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले 2017-18 में 49,520.41 करोड़ रुपये थी।

आईटीसी के चेयरमैन बने संजीव पुरी
प्रमुख एफएमसीजी कंपनी आईटीसी लिमिटेड ने सोमवार को कहा कि इसके निदेशक मंडल ने कंपनी के प्रबंध निदेशक संजीव पुरी को तत्काल प्रभाव से अपना चेयरमैन नियुक्त किया है। कंपनी ने वाई. सी. देवेश्वर के निधन के बाद उनकी नियुक्ति की है। देवेश्वर विविध व्यवसायों वाले इस समूह के चेयरमैन व गैर कार्यकारी निदेशक थे।

आईटीसी ने एक नियामक दाखिले में कहा, “कंपनी के निदेशक मंडल की आज (सोमवार) को हुई बैठक में प्रबंध निदेशक संजीव पुरी को कंपनी का चेयरमैन नियुक्त किया गया, जो 13 मई 2019 से प्रभावी है। इसके परिणामस्वरूप पुरी का नया पद चेयरमैन व कंपनी प्रबंध निदेशक का है।” पुरी कंपनी के निदेशक मंडल में 2015 से हैं और उन्हें मुख्य कार्यकारी अधिकारी के तौर पर फरवरी 2017 में नियुक्त किया गया। वह समूह के नेतृत्व का स्वतंत्र प्रभार संभाल रहे थे।

पुरी ने एक बयान में कहा, “कंपनी का चेयमैन नियुक्त किया जाना एक सम्मान और विशेषाधिकार है। यह एक ऐसी जिम्मेदारी है जिसे मैं विनम्रता के साथ स्वीकार करता हूं और सालों से पोषित उत्कृष्ट विरासत को आगे ले जाने व इसे मजबूत करने और आईटीसी के राष्ट्र प्रथम की प्रतिबद्धता का समर्थन करते हुए सभी व्यावसायिक क्षेत्रों में कंपनी की नेतृत्वकारी भूमिका का संकल्प लेता हूं।”

पुरी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर और व्हार्टन स्कूल ऑफ बिजनेस के पूर्व छात्र हैं। उन्होंने जुलाई 2016 से कंपनी के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर (सीओओ) के रूप में भी काम किया है। देवेश्वर कंपनी के सबसे लंबे समय तक सेवा देने वाले कॉरपोरेट प्रमुख रहे। उनका निधन शनिवार को हो गया। वह 72 साल के थे। वह पहली बार अप्रैल 1984 में कार्यकारी निदेशक नियुक्त किए गए थे और 1996 में चेयरमैन बने थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ITC appoints Sanjiv Puri as Chairman ITC Q4 net profit rises By 19 Percent to Rs 3482 crore