DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हेल्थ इंश्योरेंस और टॉप अप प्लान एक ही कंपनी से लेना जरूरी नहीं

Health insurance policy

अगर हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी आपकी जरूरतों को पूरा नहीं कर पाती है तो आपके पास टॉप अप लेने का विकल्प रहता है। आपने जिस बीमा कंपनी से मेडिकल इंश्योरेंस ले रखा है, अक्सर वह आपको टॉपअप प्लान का विकल्प भी ऑफर करते हैं। लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि आप उसी कंपनी से टॉपअप प्लान भी लें। आप ऑनलाइन विकल्प तलाश कर अलग से टॉप अप मेडिकल प्लान भी ले सकते हैं। जब आपकी मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी से क्लेम की सीमा पूरी हो जाती है तो आप टॉप अप प्लान से क्लेम का दावा कर सकते हैं। उसे भी सिर्फ मेडिकल दस्तावेज देने जरूरी होते हैं। जिन कर्मचारियों को मेडिक्लेम मिला है, वे भी टॉपअप प्लान ले सकते हैं।

लंबे समय के इलाज के लिए भी बेहतर
सिक्योरनॉउ के मुख्य अधिकारी अभिषेक बोंदिया का कहना है कि अगर आपने दो अलग-अलग जगह से हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी ले रखी है और आप लंबे समय के लिए भी अस्पताल में भर्ती होते हैं, तो भी क्लेम लिया जा सकता है। आप मूल पॉलिसी से क्लेम लेने के बाद बाकी का बिल दूसरी कंपनी के समक्ष दे सकते हैं। अगर आपने एक ही बिल दोनों जगह भेज दिया है तो दूसरी बीमाकर्ता कंपनी पहले कंपनी द्वारा दिए गए भुगतान में से बाकी की राशि ही चुकाएगी।

मूल पॉलिसी से ही पहले क्लेम मांगें
आप चाहें तो मूल पॉलिसी से क्लेम न लें और टॉप अप प्लान से क्लेम मांग सकते हैं, लेकिन ऐसा न करना ही बेहतर होगा। क्योंकि ऐसा करने से आपका नो क्लेम बोनस तुरंत ही खत्म हो जाएगा।

दस्तावेजों में समानता जरूरी
पॉलिसी आप चाहे जहां से भी लें, मगर यह ध्यान रखें कि दोनों ही जगह दी गई आपकी जानकारी एक ही होनी चाहिए, अन्यथा क्लेम भुगतान में दिक्कत आ सकती है। अपना नाम, पता और बैंक खाता आदि एक ही रखें। साथ ही मेडिकल रिकॉर्ड में भी कोई अंतर नहीं होना चाहिए।

बड़ी बीमारियों के खर्च से सुरक्षा देता है टॉप अप
सामान्यतया लोग दो से पांच लाख रुपये की हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं, लेकिन बदकिस्मती से अगर आपको कैंसर, हृदय रोग जैसी गंभीर बीमारी हो जाती है तो यह पॉलिसी पर्याप्त नहीं होती। ऐसे में टॉप अप पॉलिसी काम आती है, इसमें आप अपनी जरूरतों के अनुसार, 10-20 लाख या इससे ज्यादा का प्लान ले सकते हैं।

किफायती पड़ता है टॉप अप प्लान
मान लीजिए कि आपके पास पांच लाख रुपये का मेडिकल बीमा है। अगर आप चिकित्सा जरूरतों को पूरा करने के लिए टॉप अप प्लान लेने की बजाय आप एक और हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं तो पांच से छह हजार रुपये तक पड़ती है। यही नहीं अगर आप पहले से चल रही पॉलिसी को अपग्रेड कराते हैं तो भी यह महंगा विकल्प पड़ता है। जबकि टॉप अप प्लान सालाना दो हजार रुपये के प्रीमियम पर ही लिया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:It is not necessary to take health insurance and top up plans from the same company