DA Image
29 अक्तूबर, 2020|5:09|IST

अगली स्टोरी

सोने की खान पर बैठे मोदी सरकार से सस्ता सोना खरीदने वाले निवेशक

                                              1907                                 10                                                                                             7540

जिन निवेशकों ने पांच साल पहले सॉवरेन गोल्ड बांड का पहला इश्यू खरीदा था, उन्हें 90 फीसद का रिटर्न हाथ लगा है।  वैसे तो इसकी मैच्योरिटी 30 नवंबर 2023 को पूरी होगी, लेकिन 30 नवंबर 2020 से निवेशक पैसा निकाल सकते हैं। बता दें  सरकार की ओर से भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड जारी किए जाते हैं। वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार मार्च 2021 तक कुल छह सीरीज में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड जारी करेगी। अभी 5 मार्च 2021 तक सरकार पांच और सीरीज ला रही है। यानी अभी आपके पास आने वाले दिनों में 5 और मौके मिल सकते हैं। आठवीं सीरीज के तहत आप 9 से 13 नवंबर के सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: सोना दिवाली से पहले बड़े धमाके को तैयार, धनतरेस तक ये रह सकती है कीमत

दिवाली से पहले मिलेगा सस्ता सोना खरीदने का मौका

सीरीज 2020-21 सब्सक्रिप्शन अवधि जारी करने की डेट
आठवीं 9 से 13 नवंबर 2020 18 नवंबर 2020
नौवीं 28 दिसंबर 2020 से एक जनवरी 2021 5 जनवरी 2021
दसवीं 11 से15 जनवरी 2021 19 जनवरी 2021
11वी 1 से 5 फरवरी 2021 09 जनवरी 2021
12वीं 01से 05 मार्च 2021 9 मार्च 2021

90 फीसद का रिटर्न के साथ 13,750 रुपए का ब्याज भी मिला

बांड का पहला इश्यू नवंबर 2015 में आया था तब कीमत 2,684 रुपए प्रति ग्राम तय की गई थी। अभी गोल्ड बांड की कीमत 5,135 रुपए प्रति ग्राम है। इस तरह निवेशकों को जबरदस्त रिटर्न मिला है। इतना ही नहीं पहले इश्यू में 1 लाख रुपए निवेश करने वाले को सालाना 2.75 फीसदी की दर से 5 साल में कुल 13,750 रुपए का ब्याज भी मिला है।

यह भी पढ़ें: दशहरे पर सोने-चांदी की ज्वैलरी की सेल में आई 35% की कमी, स्लोडाउन का दिखा असर

क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड

                 सोने की खान पर बैठे मोदी सरकार से सस्ता सोना खरीदने वाले निवेशक

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेशक को फिजिकल रूप में सोना नहीं मिलता। यह फिजिकल गोल्ड की तुलना में अधिक सुरक्षित है। जहां तक शुद्धता की बात है तो इलेक्ट्रॉनिक रूप में होने के कारण इसकी शुद्धता पर कोई संदेह नहीं किया जा सकता। इस पर तीन साल के बाद लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगेगा (मैच्योरिटी तक रखने पर कैपिटल गेन टैक्स नहीं लगेगा) वहीं इसका लोन के लिए  इसका उपयोग कर सकते हैं। इन बॉन्ड्स की अवधि 8 साल की होती है। अगर बात रिडेंप्शन की करें तो पांच साल के बाद कभी भी इसको भुना सकते हैं।

कहां से खरीदें

एसजीबी के हर आवेदन के साथ निवेशक PAN जरूरी है। सभी कामर्शियल बैंक (आरआरबी, लघु वित्त बैंक और भुगतान बैंक को छोड़कर), डाकघर, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (एसएचसीआईएल), नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया लिमिटेड और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज या सीधे एजेंटों के माध्यम से आवेदन प्राप्त करने और ग्राहकों को सभी सेवाएं प्रदान करने के लिए अधिकृत हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Investors buying cheap gold from Modi government sitting on gold mine