DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसZee विवाद में इनवेस्को ने किया रिलायंस का जिक्र, मुकेश अंबानी की कंपनी ने कही ये बात

Zee विवाद में इनवेस्को ने किया रिलायंस का जिक्र, मुकेश अंबानी की कंपनी ने कही ये बात

मिंट,नई दिल्लीDeepak Kumar
Wed, 13 Oct 2021 08:48 PM
Zee विवाद में इनवेस्को ने किया रिलायंस का जिक्र, मुकेश अंबानी की कंपनी ने कही ये बात

मीडिया हाउस जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज और कंपनी की निवेशक इनवेस्को के बीच विवाद बढ़ता जा रहा है। विवाद में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज का भी जिक्र हुआ है। वहीं, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने स्‍पष्‍ट शब्‍दों में कहा है कि इस विवाद में उसका नाम जोड़े जाने वाली मीडिया रिपोर्ट्स सही नहीं हैं।

क्या है मामला:  दरअसल, जी एंटरटेनमेंट के बोर्ड ने शेयर बाजार को दी जानकारी में बताया था कि इनवेस्को खुद एक बड़े भारतीय समूह (रणनीतिक समूह) के स्वामित्व वाली कंपनी और कुछ संस्थाओं के साथ विलय के लिए प्रस्ताव लेकर आया था। इसके बाद इनवेस्को ने सफाई में कहा कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने अपने कुछ मीडिया कारोबार को जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड के साथ विलय करने की पेशकश की थी। इस पेशकश को जी के प्रबंध निदेशक पुनीत गोयनका ने ठुकरा दिया था। 

रिलायंस ने क्या कहा: रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बुधवार को कहा कि उसने कुछ महीने पहले जी एंटरटेनमेंट के साथ अपनी मीडिया संपत्तियों के विलय का प्रस्ताव रखा था लेकिन संस्थापकों की हिस्सेदारी को लेकर मतभेदों के उसने इस प्रस्ताव को छोड़ दिया था। 

रिलायंस ने एक बयान में कहा, ‘‘फरवरी/मार्च 2021 में इनवेस्को ने हमारे प्रतिनिधियों और जी एंटरटेनमेंट के प्रबंध निदेशक एवं प्रवर्तक परिवार के सदस्य पुनीत गोयनका के बीच सीधे चर्चा की व्यवस्था करने में रिलायंस की सहायता की थी।’’ उसने कहा, ‘‘हमने जी एंटरटेनमेंट और अपनी सभी संपत्तियों के उचित मूल्यांकन पर जी के साथ अपनी मीडिया संपत्तियों के विलय के लिए एक व्यापक प्रस्ताव रखा था।’’ रिलायंस गोयनका सहित मौजूदा प्रबंधन को बनाए रखना चाहती थी, जिसे हटाने की मांग जी एंटरटेन्मेंट की सबसे बड़े शेयरधारक इनवेस्को ने की है।

विलय का था ये प्रस्ताव:  इससे पहले मंगलवार को जी एंटरटेनमेंट ने शेयर बाजार को बताया था कि इस विलय के तहत रणनीतिक समूह के पास बहुमत हिस्सेदारी होती। विलय के बाद बनी इकाई में  पुनीत गोयनका को प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) बनाने की पेशकश की गई थी और चार प्रतिशत हिस्सेदारी देने की भी बात की गई थी।

जी एंटरटेनमेंट ने शेयर बाजार को दी सूचना में आरोप लगाते हुए कहा- इनवेस्को की बातें विरोधाभासी हैं। कंपनी ने आगे कहा कि ऐसे में शेयर बाजारों को इनवेस्को द्वारा गलत सूचना दी गई है। हालांकि, जी एंटरटेनमेंट ने उस कंपनी के नाम का जिक्र नहीं किया है, जिसका प्रस्ताव लेकर इनवेस्को आई थी।

इनवेस्को की क्या है मांग: बता दें कि इनवेस्को मीडिया कंपनी जी एंटरटेनमेंट के निदेशक मंडल (बोर्ड) के पुनर्गठन की मांग कर रहा है। इसके साथ ही कंपनी के सीईओ पुनीत गोयनका और दो अन्य निदेशकों को हटाने के लिए असाधारण आम बैठक (ईजीएम) बुलाने की कोशिश में है। फर्म में इनवेस्को की 7.74 प्रतिशत हिस्सेदारी है। 

पिछले महीने सोनी ग्रुप कॉर्प की भारतीय इकाई ने जी एंटरटेनमेंट को खरीदने के लिए एक गैर-बाध्यकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए। प्रस्तावित सौदे में विलय के बाद बनी इकाई में सोनी इंडिया की लगभग 53 प्रतिशत हिस्सेदारी और शेष जी एंटरटेनमेंट के पास होगी। इस विलय का इनवेस्को विरोध कर रहा है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें