DA Image
16 सितम्बर, 2020|1:23|IST

अगली स्टोरी

GDP में आजादी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट की आशंका: नाराणमूर्ति

इन्फोसिस के संस्थापक एन आर नारायणमूर्ति ने मंगलवार को आशंका जताई की कोरोना वायरस के चलते इस वित्त वर्ष में देश की आर्थिक गति आजादी के बाद सबसे खराब स्थिति में होगी। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था को जल्द से जल्द पटरी पर लाया जाना चाहिए। नारायण मूर्ति ने ऐसी एक नई प्रणाली विकसित करने पर भी जोर दिया जिसमें देश की अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र में प्रत्येक कारोबारी को पूरी क्षमता के साथ काम करने की अनुमति हो।

उन्होंने आशंका जताई कि इस बार सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में स्वतंत्रता के बाद के सबसे बड़ी गिरावट दिख सकती है। मूर्ति ने कहा, भारत की जीडीपी में कम से कम पांच प्रतिशत संकुचन का अनुमान लगाया जा रहा है। ऐसी आशंका है कि हम 1947 की आजादी के बाद की बससे बुरी जीडीपी वृद्धि (संकुचन) देख सकते हैं। सॉफ्टवेयर क्षेत्र में बड़ी पहचान रखने वाले मूर्ति यहां भारत की डिजिटल क्रांति का नेतृत्व पर आयोजित एक परिचर्चा में भाग ले रहे थे।  नारायण मूर्ति ने कहा, वैश्विक जीडीपी नीचे गई है। वैश्विक व्यापार डूब रहा है, वैश्विक यात्रा करीब करीब नदारद हो चुकी है। ऐसे में वैश्विक जीडीपी में पांच से 10 प्रतिशत तक संकुचन होने का अनुमान है। मूर्ति ने कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन लगने के पहले दिन से ही उनका यही विचार रहा है कि लोगों को कोरोना वायरस के साथ ही जीवन जीने के लिए तैयार होना होगा। इसके लिए तीन वजह हैं, इसकी कोई दवा नहीं है, कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है और अर्थव्यवस्था को रोका नहीं जा सकता है। इस महामारी का सबसे पहले संभावित टीका ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से आने की उम्मीद है। यह टीका देश में छह से नौ माह के भीतर ही उपलब्ध हो पाएगा। मूर्ति ने कहा, यदि हम प्रतिदिन एक करोड़ लोगों को भी टीका लगाते हैं तब भी सभी भारतीयों को टीका लगाने में 140 दिन लग जाएंगे। यह इस बीमारों को फैलने से रोकने में लंबी अवधि है।

प्रौद्योगिकी क्षेत्र की इस हस्ती ने कहा, ऐसी स्थिति में हम अर्थव्यवस्था को बंद नहीं कर सकते हैं। इसलिए समझदारी इसी में है कि एक नई सामान्य स्थिति को परिभाषित किया जाए। यह स्थिति पृथ्वी पर आगे बढ़ते हुए और वायरस से लड़ते हुए अर्थव्यवस्था को वृद्धि के रास्ते पर आगे बढ़ाने वाली होनी चाहिए। नारायण मूर्ति ने मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए एक नई प्रणाली विकसित करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि टीका तैयार हो जाने की स्थिति में हर व्यक्ति को टीका लगाने के लिए स्वास्थ्य ढांचा खड़ा किया जाना चाहिए। इसके साथ ही नए वायरस की इलाज की दिशा में भी काम होना चाहिए।

सोने और चांदी के भाव में आई बड़ी गिरावट, जानें कितना सस्ता हुआ गोल्ड

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Infosys founder NR Narayana Murthy Fear of biggest decline in GDP since independence