ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसUPA सरकार में थम गई थी इकोनॉमी.. Infosys के को-फाउंडर ने बताया तब का माहौल

UPA सरकार में थम गई थी इकोनॉमी.. Infosys के को-फाउंडर ने बताया तब का माहौल

बता दें कि साल 2008 में दुनिया की बड़ी बैंको में शुमार एचएसबीसी के बोर्ड में नारायण मूर्ति शामिल किए गए थे। उन्हें एचएसबीसी होल्डिंग्स के स्वतंत्र गैर-कार्यकारी निदेशक बनाया गया था।

UPA सरकार में थम गई थी इकोनॉमी.. Infosys के को-फाउंडर ने बताया तब का माहौल
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 24 Sep 2022 03:47 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार के वक्त देश की इकोनॉमी ठहर गई थी। ये बात दिग्गज आईटी कंपनी इंफोसिस के को-फाउंडर एनआर नारायण मूर्ति ने कही है। उन्होंने कहा कि बतौर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह असाधारण व्यक्ति थे लेकिन भारत में आर्थिक गतिविधियां आगे नहीं बढ़ पा रही थीं।

क्या कहा को-फाउंडर ने: नारायण मूर्ति ने कहा-मैं लंदन में (2008 और 2012 के बीच) एचएसबीसी के बोर्ड में था। पहले कुछ वर्षों में, जब बोर्डरूम (बैठकों के दौरान) में चीन का दो से तीन बार जिक्र किया गया, तो भारत का नाम एक बार आता था'' मूर्ति ने आगे कहा, ''मुझे नहीं पता कि भारत के साथ क्या हुआ। पूर्व पीएम मनमोहन सिंह एक असाधारण व्यक्ति थे और मेरे मन में उनके लिए बहुत सम्मान है। लेकिन यूपीए के दौर में भारत ठहर गया था। निर्णय नहीं लिए जा रहे थे।'' 

ये पढ़ें- अमेरिकी 'तूफान' में उड़ी अरबपतियों की दौलत, मस्क से अंबानी-अडानी तक को तगड़ा नुकसान

2008 में बोर्ड में शामिल: आपको बता दें कि साल 2008 में दुनिया की बड़ी बैंको में शुमार एचएसबीसी के बोर्ड में नारायण मूर्ति शामिल किए गए थे। उन्हें एचएसबीसी होल्डिंग्स के स्वतंत्र गैर-कार्यकारी निदेशक बनाया गया था। नारायण मूर्ति के मुताबिक जब उन्होंने साल 2012 में एचएसबीसी के बोर्ड को छोड़ा, तो बैठकों के दौरान भारत का नाम शायद ही कभी आता था, जबकि चीन का नाम लगभग 30 बार लिया गया।

नारायण मूर्ति ने कहा कि आज दुनिया में भारत के लिए सम्मान का भाव है और देश अब दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गया है।