DA Image
29 जून, 2020|12:58|IST

अगली स्टोरी

ट्रेड वॉर: दक्षिण एशिया में चीन के मुकाबले कहीं नहीं टिकता भारत, इस क्षेत्र में 546 फीसद बढ़ा ड्रैगन का व्यापार

india china face off

1980 से ही दक्षिण एशिया के देशों के साथ भारत का व्यापार दुनिया के मुकाबले 4 फीसद से कम पर ही अटका हुआ है, जबकि चीन का इस क्षेत्र में 546 फीसद बढ़ा है। 2005 में चीन का व्यापार 8 बिलियन डॉलर था और 2018 में यह 52 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया।   ब्रुकिंग्स इंडिया द्वारा मंगलवार को जारी किए गए अध्ययन में कहा गया है कि दक्षिण एशिया दुनिया के सबसे कम आर्थिक रूप से एकीकृत क्षेत्रों में से एक है। संरक्षणवादी नीतियों, उच्च लागत, राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी और एक व्यापक विश्वास की कमी के कारण इस क्षेत्र की वैश्विक व्यापार में भागीदारी 5% से भी कम है। यानी अन्तरक्षेत्रीय व्यापार अपनी क्षमता से भी कम है। 

यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस का असर : इस बार नहीं होगा भारत-चीन सीमा कारोबार

भारत की दक्षिण एशिया के साथ सीमित व्यापार कनेक्टिविटी' विषय पर हुआ अध्ययन यह बताता है कि 1991 से 1999 तक भारत की क्षेत्रीय व्यापार वृद्धि न्यूनतम थी। 2008 में दक्षिण एशियाई पड़ोसियों के साथ भारत का व्यापार 13.45 बिलियन डॉलर के उच्च स्तर पर पहुंच गया। 2009 में वैश्विक वित्तीय संकट के बाद भारत का अपने पड़ोसियों के साथ व्यापार अगले पांच वर्षों में दोगुना हो गया, जो 2014 में 24.69 बिलियन डॉलर था। दक्षिण एशिया में भारत के निर्यात में मंदी 2015 और 2016 में  आई। भारत के वैश्विक व्यापार में 13% की गिरावट 2014 में 19 ट्रिलियन डॉलर की थी वहीं 2015 में यह 16.5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंच गई। इसके बाद 2017 में अंतरक्षेत्रीय व्यापार  पुनर्जीवित हुआ, जो 24.275 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया। अध्ययन के अनुसार, 2018 में यह और बढ़ाकर 36 बिलियन डॉलर हो गया।

भारत का सबसे बड़ा निर्यात बाजार बांग्लादेश

दक्षिण एशिया क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा निर्यात बाजार बांग्लादेश है, इसके बाद श्रीलंका और नेपाल हैं, जबकि पैसे के हिसाब से देखें तो सबसे बड़ा आयात म्यांमार, श्रीलंका और बांग्लादेश से होता है। पड़ोस के सभी देशों में भारत के साथ व्यापार घाटा है, 2018 में सबसे अधिक बांग्लादेश ($ 7.6 बिलियन), उसके बाद नेपाल (6.8 मिलियन डॉलर) है। अध्ययन में कहा गया है कि बढ़ती व्यापार मात्रा के बावजूद, भारत का अपने पड़ोस के साथ व्यापार लगभग 1.7% और वैश्विक व्यापार के 3.8% के बीच बना हुआ है। दक्षिण एशियाई मुक्त व्यापार क्षेत्र (SAFTA) समझौते, भारत-म्यांमार सीमा व्यापार समझौता, ASANAN- भारत व्यापार माल समझौते और इसके बाद SAARC अधिमानी व्यापार व्यवस्था (SAPTA) और भारत-श्रीलंका मुक्त व्यापार समझौता जैसे व्यापार समझौतों के बावजूद भी यह स्थिति है।  

चीन ने अपने व्यापार में लगातार वृद्धि की

इसके विपरीत, चीन ने 2008 के वैश्विक वित्तीय संकट के बाद थोड़ी गिरावट के साथ दक्षिण एशिया के साथ अपने व्यापार में लगातार वृद्धि की है। 2014 में चीन का व्यापार $ 60.41 बिलियन तक पहुंच गया, जबकि भारत इसके लगभग एक तिहाई कारोबार किया जो 24.70 बिलियन डॉलर था। हालांकि दक्षिण एशिया के साथ चीन का व्यापार वॉल्यूम लगातार बड़ा है, पाकिस्तान को छोड़कर यह अंतर लगभग आधा हो जाता है। इस अंतर को 2006 में हस्ताक्षरित चीन-पाकिस्तान मुक्त व्यापार समझौते के लिए जिम्मेदार ठहराया गया, जिसने दोनों देशों के बीच व्यापार में काफी वृद्धि की।

यह भी पढ़ें: बेहद खराब स्थिति में पहुंचा भारत-चीन व्यापार, लद्दाख तनाव लम्बा खिंचा तो स्थिति और खराब होगी

दक्षिण एशियाई देशों के वैश्विक व्यापार में भारत और चीन के शेयरों के अध्ययन के विश्लेषण से पता चला है कि चीन के मुकाबले भारत का उन देशों से व्यापार में हिस्सेदारी अधिक थी, जिनकी सीमाएं इससे सटी हैं जैसे अफगानिस्तान, भूटान और नेपाल, जबकि क्षेत्र से चीन को निर्यात कम से कम रहा है। वहीं चीन म्यांमार में 2012 से और मालदीव, बांग्लादेश व पाकिस्तान में 2014 से बढ़ रहा है।

कभी भारत के भरोसे रहता था श्रीलंका और अब..

भारत-श्रीलंका मुक्त व्यापार समझौते के कारण, 2013 तक श्रीलंका की भारत से आयात पर भारी निर्भरता थी। हालाँकि, 2013 के बाद, भारत और चीन दोनों श्रीलंका में बराबर निर्यात करते हैं। “पिछले दो दशकों में, चीन ने खुद को दक्षिण एशिया के प्रमुख व्यापार भागीदार के रूप में स्थापित किया है। पाकिस्तान से परे, चीन ने 2015 में बांग्लादेश का शीर्ष व्यापारिक भागीदार बनकर दक्षिण एशिया में प्रवेश किया और नेपाल, अफगानिस्तान, मालदीव और श्रीलंका के साथ व्यापार और निवेश बढ़ा है। यह मुख्य रूप से चीन के बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI), विशेष रूप से छोटे दक्षिण एशियाई देशों के लिए क्षेत्र के रणनीतिक महत्व को दर्शाता है।

अध्ययन में भारत के क्षेत्रीय व्यापार को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए कई चरणों की सिफारिश की गई है, जिसमें मुक्त व्यापार समझौतों पर ध्यान केंद्रित करना और फिर से परिभाषित करना, बाधाओं और अन्य संरक्षणवादी नीतियों को समाप्त करना और सीमा पार बुनियादी ढांचे को बढ़ाना जैसे एकीकृत चेक पोस्ट शामिल हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Indias trade with South Asia less than 4 percent of global trade Chinas trade with region increased by 546 percent