DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत 2023 तक डिजिटल लेनदेन में चीन-अमेरिका को पछाड़ देगा, 20 फीसदी की दर से बढ़ रहा है कारोबार

digital payment

देश में फिनटेक कंपनियों की तेजी से जारी विस्तार के बल पर वर्ष 2023 तक डिजिटल भुगतान के दोगुना से अधिक बढ़कर 135.2 अरब डॉलर पर पहुंचने की संभावना है और भारत डिजिटल लेनदेन में बढोतरी के मामले में चीन और अमेरिका को पछाड़ देगा। अभी भारत में डिजिटल लेनदेन 64.8 अरब डॉलर है जबकि चीन इस मामले में 1.56 लाख करोड़ डॉलर के डिजिटल भुगतान के साथ अव्वल देश बना हुआ है।

उद्योग संगठन एसोचैम और पीडब्ल्यूसी की एक अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2019 से 2023 के दौरान देश में डिजिटल भुगतान में तीव्र बढोतरी होने का अनुमान है। भारत में वार्षिक 20 फीसदी से अधिक की दर से बढ़ोतरी हो रही है। इस अवधि में चीन में डिजिटल लेनदेन में 18.5 प्रतिशत और अमेरिका में 8.6 प्रतिशत की वृद्धि होने का अनुमान है।

वैश्विक स्तर पर डिजिटल लेनदेन मूल्य के मामले में अगले चार वर्षों में भारत की हिस्सेदारी वर्तमान के 1.56प्रतिशत से बढ़कर 2.02 प्रतिशत हो जाएगी। रिपोर्ट के अनुसार डिजिटल कॉमर्स में बढोतरी, भुगतान प्रौद्यागिकी के क्षेत्र में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, रियल टाइम भुगतान और मोबाइल प्वांइट ऑफ सेल (पीओएस) उपकरण के आने से डिजिटल लेनदेने के इंफ्रास्ट्रक्चर की लागत में कमी आयी है और इससे डिजिटल भुगतान को बढ़ाने में मदद मिली है। 

50 से अधिक कंपनियां डिजिटल भुगतान सेवा में 
रिपोर्ट में कहा गया है कि नियामक पहल और गैर बैंकिंग क्षेत्र के वॉलेट की सफलता से पिछले तीन वर्षों में इलेक्ट्रानिक भुगतान में तेजी आयी है। टेलीकॉम कंपनियों, बैंकों, वॉलेट कंपनियों और ई कॉमर्स रिटेलरों की वजह से देश में प्रतिस्पधी डिजिटल भुगतान में व्यापक बदलाव आया है। अभी देश में 50 ऐसी कंपनियां है जो डिजिटल भुगतान सेवा प्रदान कर रही है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:India Beyond China US in Digital Payments By 2023