ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसआयकर विभाग ने 1.62 लाख करोड़ रुपये के रिफंड जारी किए, अगर आपका नहीं आया तो यह हो सकती है वजह

आयकर विभाग ने 1.62 लाख करोड़ रुपये के रिफंड जारी किए, अगर आपका नहीं आया तो यह हो सकती है वजह

आयकर विभाग ने गुरुवार को कहा कि इस वित्त वर्ष में अब तक उसने 1.79 करोड़ करदाताओं को 1.62 लाख करोड़ रुपये से अधिक के रिफंड जारी किए हैं।इसमें आकलन वर्ष 2020-21 के 1.41 करोड़ रिफंड शामिल हैं, जो...

आयकर विभाग ने 1.62 लाख करोड़ रुपये के रिफंड जारी किए, अगर आपका नहीं आया तो यह हो सकती है वजह
Drigraj Madheshiaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 27 Jan 2022 12:46 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

आयकर विभाग ने गुरुवार को कहा कि इस वित्त वर्ष में अब तक उसने 1.79 करोड़ करदाताओं को 1.62 लाख करोड़ रुपये से अधिक के रिफंड जारी किए हैं।इसमें आकलन वर्ष 2020-21 के 1.41 करोड़ रिफंड शामिल हैं, जो 27,111.40 करोड़ रुपये के हैं। आयकर विभाग ने ट्वीट किया, ''केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक अप्रैल 2021 से 24 जनवरी 2022 के बीच 1.79 करोड़ से अधिक मतदाताओं को 1,62,448 करोड़ रुपये से अधिक के रिफंड जारी किए हैं।'

इस वजह से नहीं आया है आपका रिफंड 

अगर आपको रिफंड का पैसा नहीं आया है तो इसकी बड़ी वजह खाते का मिस मैच करना होगा। विभाग के अनुसार के तरह समायोजन, दोष की वजह से भी आपका पैसा रुका होगा। आपको बता दें सेक्शन 245 के तहत अगर आपका अकाउंट मैच नहीं करता तो आपको पैसा क्रेडिट नहीं होगा। 

रिफंड की स्थिति देखें

अगर आपका रिफंड नहीं आता है तो आप आयकर विभाग की वेबसाइट के जरिये स्टेटस चेक कर सकते हैं। आप यह काम अपने पैन और लॉगइन आईडी औैर पासवर्ड के जरिये आसानी से कर सकते हैं।

रिफंड नहीं मिला तो यह करें

रिफंड नहीं मिलने पर सबसे पहले आयकर विभाग की वेबसाइट पर अपने आयकर खाते में लॉग इन करें। इसके बाद माय अकाउंट्स और उसके बाद रिफंड और फिर डिमांड स्टेटस पर क्लिक करें। इसके बाद वह निर्धारण वर्ष भरें जिसका आपको रिफंड पता करना है। ऐसा करते ही रिफंड से जुड़ी जानकारी सामने आ जाएगी। इसमें रिफंड नहीं भेजने की जानकारी मिल जाएगी।

बैंक खाता संख्या सावधानी से भरें

सीधे खाते में रिफंड की रकम पाने के लिए बैंक खाते की जानकारी सावधानी से भरें। वैसे आजकल बैंक खाता और आपका रिटर्न पहले से जुड़ा होता है। अगर आपके पास पहले से जुड़ा खाता नहीं है तो सबसे पहले उसे सत्यापित करना होगा। इसके बाद ई-वेरिफिकेशन के लिए विकल्प दिखेंगे। ई-वेरिफिकेशन के उचित मोड को चुनें। अनुरोध को जमा करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक वेरिफिकेशन कोड (ईवीसी)/आधार ओटीपी को जेनरेट और उसे भरें। रिफंड री-इश्यू रीक्वेस्ट सबमिट करने के बाद एक मैसेज आएगा जिसका मतलब है कि आपका आवेदन सफलतापूर्वक स्वीकार कर लिया गया है। आपको जल्द रिफंड जारी किया जाएगा।

epaper