Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसनोटिस पीरियड से पहले छोड़ी नौकरी तो देनी पड़ सकती GST, जानें कितना करना होगा भुगतान 

नोटिस पीरियड से पहले छोड़ी नौकरी तो देनी पड़ सकती GST, जानें कितना करना होगा भुगतान 

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली Tarun Singh
Fri, 03 Dec 2021 05:06 PM
नोटिस पीरियड से पहले छोड़ी नौकरी तो देनी पड़ सकती GST, जानें कितना करना होगा भुगतान 

इस खबर को सुनें

अगर कहीं नौकरी करते हैं तो आपके लिए बहुत जरूरी अपडेट आई है। अगर कोई व्यक्ति कंपनी छोड़ते वक्त काॅन्ट्रैक्ट में दिए गए नोटिस पीरियड से पहले निकलना चाहते हैं तो उन्हें आने वाले समय में जीएसटी का भुगतान करना पड़ सकता है। हाल ही में अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (AAR) ने अपने हालिया फैसले में कहा कि नोटिस की समय सीमा ना पूरी करने वाले कर्मचारियों से विभिन्न भुगतानों पर जीएसटी लगाया जा सकता है। ये भुगतान वेतन, समूह बीमा, टेलिफोन बिल है। सरल भाषा में कहे तो जो पैसा आपको नोटिस पीरियड के दौरान मिलता है उस पर जीएसटी लगाई जा सकती है। 

इस पूरे मसले पर टैक्स और इनवेस्टमेंट एक्सपर्ट बलवंत जैन कहते हैं, 'हाल ही में AAR की रूलिंग में कहा गया है कि रिवर्स चार्ज मैकेनिज्म के तहत यह जिम्मेदारी इम्प्लाॅयर की होगी वह जीएसटी का भुगतान करें। लेकिन नोटिस पीरियड की समय सीमा ना मानने पर कंपनी कर्मचारियों से जीएसटी भुगतान करने के लिए कह सकती है।' 

यह भी पढ़ेंः FD पर ब्याज: HDFC, SBI और ICICI में कौन दे रहा है फिक्सड डिपाॅजिट पर सबसे बेहतर रिटर्न?

कितना देना पड़ सकता है जीएसटी? 

कितना देना पड़ सकता है जीएसटी पर टैक्स और इनवेस्टमेंट एक्सपर्ट जितेन्द्र सोलंकी कहते हैं, 'यह रिकवरी मोबाइल बिल, इंश्योरेंस जैसे भुगतान से की जा सकती है। साथ नोटिस पीरियड के दौरान भुगतान की जाने वाली पूरी सैलरी पर जीएसटी देना पड़ सकता है। नोटिस पीरियड से पहले नौकरी छोड़ने वाले कर्मचारियों से उस दौरान की सैलरी का 18% जीएसटी कंपनी वसूल सकती है। 

एक्सपर्ट के अनुसार कर्मचारियों को जीएसटी का भुगतान तभी करना होगा जब वह नोटिस पीरियड पूरा नहीं करते हैं। अगर कर्मचारी नोटिस पीरियड के बाद नौकरी छोड़ता है तो कंपनी जीएसटी का भुगतान करेगी। ऐसे में अगर आप नई कंपनी ज्वाइन कर रहे हैं तो नोटिस पीरियड भी जरूर चेक कर लें। अमूमन कंपनियों में नोटिस पीरियड एक से तीन महीने का होता है। 

epaper

संबंधित खबरें