Wednesday, January 19, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसकोरोना से हुए बीमार तो इलाज के लिए इन 9 विकल्पों से तुरंत जुटा सकते हैं फंड

कोरोना से हुए बीमार तो इलाज के लिए इन 9 विकल्पों से तुरंत जुटा सकते हैं फंड

नई दिल्ली। हिन्दुस्तान ब्यूरोDrigraj Madheshia
Fri, 03 Dec 2021 09:34 AM
कोरोना से हुए बीमार तो इलाज के लिए इन 9 विकल्पों से तुरंत जुटा सकते हैं फंड

कोरोना का ओमिक्रॉन प्रॉरूप बेहद खतरनाक बताया जा रहा है। कोरोना के इलाज का औसत खर्च दो लाख रुपये के करीब पहुंच गया है, लेकिन स्थिति के अनुसार राशि इससे भी ऊपर पहुंच सकती है। ऐसे में तुरंत राशि जुटाने के लिए आप इन नौ विकल्पों पर विचार कर सकते हैं जो इलाज के खर्च में आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।

सबसे जल्दी गोल्ड लोन

कोरोना के इलाज के लिए राशि कम पड़ने की स्थिति में आप सोने के बदले कर्ज यानी गोल्ड लोन का विकल्प चुन सकते हैं। दस्तावेज के नाम पर केवल पैन और आधार देना पड़ता है और एक से दो घंटे के भीतर गोल्ड लोन की राशि आपके खाते में आ जाती है। हालांकि कुछ एनबीएफसी सिर्फ चंद मिनट में गोल्ड लोन देने का भी दावा करती हैं। सोने के मूल्य का करीब 70 से 80 फीसदी तक गोल्ड लोन मिलता है। हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि कीमतों में उतार-चढ़ाव को देखते हुए अधिकतम सीमा से 10 फीसदी कम राशि का कर्ज लेना चाहिए वरना सोने के दाम में गिरावट आने पर आपको उतनी राशि बीच में चुकानी पड़ सकती है।

एफडी के बदले कर्ज

सावधि जमा यानी एफडी के बदले बैंक बेहद आसानी से कर्ज देते हैं। इसकी ब्याज दर एफडी के ब्याज दर से महज दो फीसदी तक ऊंची होती है जो पर्सनल लोन से काफी सस्ती होती है। साथ ही एफडी बीच में तोड़ने की नौबत भी नहीं आती है।

होम लोन पर टॉप-अप

आपने आवास ऋण (होम लोन) ले रखा है तो उसपर टॉप-अप ले सकते हैं। इसके लिए होम लोन देने वाले बैंक से बात कर सकते हैं। टॉप-अप पर ब्याज होम लोन के ब्याज से करीब एक फीसदी महंगा होता है। इसके बावजूद यह अन्य कर्ज की तुलना बेहद सस्ता होता है। इसकी अवधि होम लोन के बराबर होने से चुकाना आसान होता है।

ईपीएफ से कोविड के लिए निकासी

कोरोना संकट को देखते हुए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने कोरोना से जुड़ी विशेष निकासी का विकल्प दिया है। इसके तहत कुल जमा का 75 फीसदी या तीन माह के मूल वेतन के बराबर राशि जो भी कम हो निकाल सकते हैं। इस राशि को वापस करने की जरूरत नहीं है। ईपीएफओ दो बार इसकी सुविधा दे चुका है। यदि आपने अभी तक नहीं निकाला है तो इस सुविधा का फायदा उठा सकते हैं।

 जीवन बीमा के बदले कर्ज

वित्तीय संकट में फंसने पर जीवन बीमा पॉलिसी के बदले भी कर्ज ले सकते हैं। हालांकि कर्ज की सुविधा कैशबैक विकल्प इडाउमेंट प्लान और लंबी अ‌वधि की पॉलिसी पर ही मिलता है। इसकी सुविधा टर्म प्लान पर नहीं मिलती है।

प्री अप्रूव्ड पर्सनल लोन

आप वेतनभोगी हैं तो वित्तीय संकट में पर्सलन लोन का भी विकल्प चुन सकते हैं। बैंक पूर्व अनुमति प्राप्त पर्सनल लोन (प्री अप्रूव्ड पर्सनल लोन) की भी पेशकश करते हैं। बैंक सामान्यत: आपकी आय और बेहतर रिकॉर्ड को देखते हुए इसकी पेशकश करते हैं। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसके लिए आपको दस्तावेज जमा करने की जरूरत नहीं होती है। ऑनलाइन यह कर्ज तुरंत आपके खाते में आ जाता है।

 म्यूचुअल फंड और शेयर के बदले कर्ज

बैंक शेयर और म्यूचुअल फंड के बदले में भी कर्ज देते हैं। आप इनका विकल्प भी सुविधानुसार चुन सकते हैं। मुश्किल समय में इसके जरिये राशि जुटाना बेहतर विकल्प हो सकता है। हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि इसके बदले जितना कर्ज मिल रहा हो उससे 15- से 20 फीसदी कम राशि लेनी चाहिए क्योंकि वरना गिरावट आने पर उतनी राशि का भुगतान आपको बीच में करना पड़ सकता है या उतने मूल्य के और शेयर बैंक को देने पड़ सकेत हैं।

क्रेडिट कार्ड का विकल्प

आप कोरोना के इलाज के लिए क्रेडिट कार्ड से भी भुगतान कर सकते हैं। हालांकि, ऐसा करना दो ही स्थिति में फायदेमंद है। पहला जब आपको अपनी ओर से राशि खर्च करनी हो या उस राशि को खर्च करने पर बाद में आपकी कंपनी से भुगतान (रिंर्बसमेंट) की सुविधा हो। क्रेडिट कार्ड पर 36 फीसदी तक ब्याज लगता है। ऐसे में इसका विकल्प सावधानी से चुनना चाहिए।

फिनटेक अंतिम विकल्प

ऐप पर कर्ज की सुविधा देने वाली फिनटेक ज्यादा दस्तावेज नहीं मांगती हैं और तुरंत राशि दे देती हैं। हालांकि, विशेषज्ञों का कहना है कि इसे अंतिम विकल्प के रूप में चुनना चाहिए क्योंकि इनकी वसूली प्रक्रिया बेहद सख्त होती है।

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें