DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  कोरोना की वजह से वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं तो इन 6 आदतों को बदलें

बिजनेसकोरोना की वजह से वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं तो इन 6 आदतों को बदलें

हिन्दुस्तान ब्यूरो,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Tue, 01 Jun 2021 11:30 AM
कोरोना की वजह से वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं तो इन 6 आदतों को बदलें

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण एक बार फिर से लाखों लोग वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं। अगर आप ही उन लोगों में शामिल हैं तो आपको इस महामारी से सीख लेकर अपनी वित्तीय आदतें बदलने की जरूरत है ताकि भविष्य में इस तरह के हालातों में भी वित्तीय समस्या का सामना न करना पड़े। हम आपको छह ऐसी आदतों के बारे में बता रहे हैं जिनको बदलकर आप बुरे समय से भी आसानी से निपट सकते हैं।

1. वसीयत बनाएं-नॉमनी जोड़े

lawyers can strike in west up at advocate omkar singh tomar suicide case

कोरोना के कारण हजारों लोगों की असमायिक मौत हो गई है। उनमें से कई मामले ऐसे आए हैं जिन्होंने अपने परिवार के लिए वसीयत नहीं बनाया। साथ ही अपने किए हुए निवेश में नॉमनी का नाम नहीं जोड़ा। अब परिवार को वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। इससे बचने के लिए वसीयत औैर नॉमनी जोड़ने का काम समय रखते पूरा कर लें।

2. आपातकालीन फंड जरूर बनाएं

money

कोरोना महामारी ने आपातकालीन फंड की अहमियत से रूबरू करा दिया है। नौकरी छूंटने या लॉकडाउन के कारण कारोबार ठप हो जाने की स्थिति में आपातकालीन फंड काफी मददगार रहा है। वित्तीय जानकारों का कहना है कि नौकरीपेशा वर्ग को अपनी मासिक आय का कम से छह महीने का आपातकालीन फंड जरूर बनना चाहिए। अगर आपने अभी तक यह फंड नहीं बनाया तो अपनी आदत में बचत की आदत डालकर आपातकालीन फंड के लिए पैसे जोड़ना शुरू कर दें।

3.स्वास्थ्य बीमा लेना है जरूरी

corona patients crushed between hospital and insurance company rules change with city

कोरोना ने लोगों को स्वास्थ्य बीमा की अहमियत को समझा दिया है। जिन लोगों के पास पहले से स्वास्थ्य बीमा था उन्हें महंगे इलाज से बड़ी राहत मिली है। लाखों लोगों ने बीमा का लाभ उठाया है। ऐसे में अब देर करना सही नहीं है। आप अपने परिवार को जरूरत को देखते हुए पर्याप्त कवर का स्वास्थ्य बीमा खरीद लें।

4.एक ही जगह न लगाएं पूरा पैसा

sensex

कोरोना ने पोर्टफोलियो में विविधता करना भी सिखाया है। पिछले साल इक्विटी निवेशकों को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा था वहीं गोल्ड ने बंपर रिटर्न दिया था। ऐसे में आप भी भविष्य के लिए बचत करें तो एक ही निवेश माध्यम में सारा पैसा न निवेश कर दें। अपने पोर्टफोलियो में इक्विटी, म्यूचुअल फंड, गोल्ड और छोटी बचत योजनाओं को शामिल करें।

5.क्रेडिट कार्ड का ज्यादा इस्तेमाल से बचें

कोरोना संकट के बीच ईएमआई चूक के मामले तेजी से बढ़े हैं। इसमें सबसे ज्यादा क्रेडिट औैर पर्सनल लोन के मामले सामने आए हैं। इससे क्रेडिट स्कोर भी खराब होता है और ब्याज भी बढ़ता है। इसीलिए भविष्य में कोरोना जैसी किसी परेशानी में आर्थिक समस्या से बचने के लिए फालतू कर्ज लेने से बचना चाहिए।

6. टर्म प्लान लेने में देर न करें

अगर आपने अभी तक टर्म प्लान नहीं लिया है तो इसको लेने में देरी नहीं करें। वित्तीय विशेषज्ञों का कहना है कि अगर किसी ने होम लोन और कार लोन लिया है तो उसे टर्म प्लान लेने में देरी नहीं करनी चाहिए। एक आम व्यक्ति को कम से कम एक करोड़ रुपये का टर्म प्लान जरूर लेना चाहिए।

संबंधित खबरें