Husband wife will get tax benefit upto 4 lakh on joint home loan - पति-पत्नी को ज्वाइंट होम लोन पर मिलती है इतनी टैक्स छूट, जानें डिटेल्स DA Image
10 दिसंबर, 2019|1:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पति-पत्नी को ज्वाइंट होम लोन पर मिलती है इतनी टैक्स छूट, जानें डिटेल्स 

home loan hindustan times

सवाल - हम दोनों पति-पत्नी कार्य करते हैं। हमने संयुक्त नाम से होम लोन लिया है जिसका भुगतान भी दोनों ही बराबर-बराबर कर रहे हैं। क्या होम लोन के ब्याज पर हम दोनों दो-दो लाख रुपये की छूट अपनी आयकर विवरणी में प्राप्त कर सकते हैं। -उमाकान्त, गाजियाबाद
जवाब - जी हां। अगर मकान में मालिकाना हक भी आप दोनों का है तो आयकर की धारा 24 के तहत आप दोनों अलग-अलग दो लाख रुपये तक की छूट प्राप्त कर सकते हैं। अगर मकान किसी एक के नाम से है और होम लोन संयुक्त नाम से है तो फिर जिनके नाम से मकान है उन्हीं को होम लोन के ब्याज की छूट प्राप्त होगी।

सवाल - मुझे मकान किराये भत्ते के वर्ष 2017-18, 2018-19 व 2019-20 के लिए एरियर प्राप्त हुए हैं। इस कारण मेरी कर देयता काफी ज्यादा बढ़ गई है। क्या आयकर नियमों के तहत ऐसी कोई व्यवस्था है जिसके कारण मेरी कर देयता कम हो सके, अन्यथा बहुत अधिक कर जमा कराना होगा। -संदीप जोशी
जवाब - प्राप्त एरियर से अगर आपके कर स्लैब में बदलाव हुआ है तो निश्चित रूप से आपकी कर देयता बढ़ी होगी। इसके लिए आपको अपनी संबंधित वर्ष जिसके एरियर प्राप्त हुए हैं कि आय की पुन: गणना करनी होगी और देखना होगा की पुन: गणना से आपकी कर देयता कितनी आती है और चालू वर्ष में एरियर को जोड़ने पर कर देयता कितनी बढ़ती है। दोनों के अन्तर का लाभ आपको आयकर की धारा 89(1) के तहत कर छूट के रूप में प्राप्त हो सकता है। परन्तु इसके लिए आपको अनिवार्य रूप से फॉर्म 10ई अपनी कर विवरणी के साथ जमा करना होगा।

सवाल - मैं भारतीय जीवन बीमा निगम से अवकाश प्राप्त अधिकारी और साहित्यकार हूं। पेंशन के अलावा मुझे यदा कदा पुस्तकों अथवा पत्रिकाओं में लिखने से कुछ आय हो जाती है। इस आय को मुझे कैसे दिखाना चाहिए? -हरि नारायण गुप्त, चन्दवारा, मुजफ्फरपुर, बिहार
जवाब - पुस्तकों अथवा पत्रिकाओं में लिखने से जो आय यदा-कदा प्राप्त होती है उसे आप अन्य स्त्रोत से आय मानकर अपनी कर गणना कर सकते हैं।

सवाल - मेरे दो पुत्र हैं। मैंने उन दोनों के नाम से पीएफ व ग्रेच्युटी के रकम से 2009 में दो भूखंड खरीदा था। दोनों पुत्र कोल इंडिया में 1998 से कार्यरत हैं। मेरे नाम से एक पुराना मकान है जिसे 50 लाख में बेच कर उसी भूखंड पर घर बनाना चाहता हूं। मेरे दोनों पुत्र भी इससे सहमत है। क्या घर बेचकर मकान में निवेश करने से कोई कर देना होगा? -सीमा कान्त

जवाब - अपना पुराना घर बेचकर नए मकान खरीदने या निर्माण कराने पर आयकर की धारा 54 के तहत छूट प्राप्त होती है। लेकिन, यह छूट तभी प्राप्त होगी जब नया मकान जिसे क्रय किया है या जिसका निर्माण किया है वो आपके अपने नाम में पंजीकृत हो। आपके संदर्भ में आप जिस भूखंड पर निर्माण करके घर बनाना चाहते हैं उस पर मालिकाना हक आपके दोनों पुत्र का है। इसलिए, निर्माण पर किए गए व्यय पर आपको धारा 54 के तहत छूट प्राप्त नहीं होगी।

सवाल - मेरी मां राज्य सरकार की पेंशन भोगी है। फॅार्म-15जी भरते समय उनकी आय की गणना कैसे करूं क्योंकि पेंशन समय समय पर बढ़ती रहती है तथा कुछ सावधि जमा (एफडी) से भी आय है। -आलोक कुमार, भरतपुर
जवाब - फॉर्म- 15जी भरते समय अनुमानित आय ही भरनी होती है। इसमें पिछले वर्ष की आय को आधार मानते हुए संभावित बढ़ोतरी को जोड़ कर अनुमानित आय भरनी चाहिए।

सोने और चांदी के दामों में आई जबरदस्त गिरावट, जानें आज का Gold रेट

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Husband wife will get tax benefit upto 4 lakh on joint home loan