DA Image
6 अगस्त, 2020|4:29|IST

अगली स्टोरी

BPCL को बेचने से पहले तीन हिस्सों में बांटा जाएगा, सरकार जल्द कर सकती है फैसला

रष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) सरकार भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) को बेचने से पहले कंपनी की संपत्ति को तीन भागों पर बांटने का विचार कर रही है। ताकि सरकार को इससे अधिकतम फायदा मिल सके। इस पूरे मामले की जानकारी रखने वाले अधिकारी ने बताया कि इस पूरे प्लान पर कैबिनेट में चर्चा होने वाली है और आज रात कोई आखिरी फैसला आ सकता है। 

योजना के मुताबिक बीपीसीएल का एक हिस्सा आसाम में नुमलीगढ़ा रिफाइनरी (NRL) पब्लिक सेक्टर ऑयल कंपनी को बेची जा सकती है। नुमलीगढ़ रिफाइनरी पूरे तरीके से बीपीसीएल का हिस्सा है। इस रिफाइनरी से नॉर्थ ईस्ट को तेल सप्लाई होती है। 

बीपीसीएल को बेचकर ज्यादा फायदा उठाने के लिए सरकार कंपनी के ऑयल रिफाइनिंग और पेट्रोल पंप (रिटेल कारोबार) को भी अलग-अलग भागों में बांटकर बेचने की योजना पर विचार कर सकती है। कुछ निवेशकों ने कंपनी के रिफाइनरी कारोबार और पेट्रोल पंपों का अधिकार खरीदने की इच्छा जताई है।  

बीपीसीएल के पास चार रिफाइनरी हैं और इन रिफाइनरी की क्षमता सालाना 38 मिलियन टन (MMTPA) की है। देश भर में कंपनी के 15,000 रिटेल आउटलेट हैं। बीपीसीएल की रिफाइनरी मुंबई, केरल के कोची, मध्यप्रदेश में बीना में हैं। ये रिफाइनरी ओमान ऑयल कंपनी के साथ ज्वाइंट वेंचर में है। इसके अलावा नुमलीगढ़ रिफाइनरी में आसाम सरकार का भी कुछ हिस्सा है। 

कुछ घरेलू रिफाइनरी बीपीसीएल का रिटेल बिजनेस खरीदना चाहती हैं क्योंकि कंपनी के पेट्रोल पंप देश में काफी अच्छी जगहों पर है। हालांकि वह बीपीसीएल का रिफाइनरी खरीदने के लिए ज्यादा इच्छुक नहीं क्योंकि उनके पास पहले से ही अच्छी खासी रिफाइनरी क्षमता है। अधिकारियों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में होने वाली कैबिनेट मीटिंग में इस प्रपोजल पर फैसला हो सकता है।
SBI बैंक में है अकाउंट तो अगले 10 दिन में कर लें ये काम, नहीं तो फंस जाएगा पैसा

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Govt strategy to get best price and value for bpcl a plan to trifurcate assets