DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गेल के विभाजन पर केंद्र सरकार कर रही है विचार, पाइपलाइन कारोबार को अलग कंपनी बनाकर बेचने की रणनीति

gail  mint photo

सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कारोबार करने वाली कंपनी गेल (इंडिया) लिमिटेड के पाइपलाइन कारोबार को एक अलग कंपनी बनाकर उसे रणनीतिक निवेशक को बेचने पर विचार कर रही है। सूत्रों ने यह जानकारी दी है। गेल देश की सबसे बड़ी प्राकृतिक गैस विपणन कंपनी है। देश के 16,234 किलोमीटर लंबे पाइपलाइन नेटवर्क का दो-तिहाई से अधिक का स्वामित्व उसके पास है।

प्राकृतिक गैस के उपयोगकर्ता अक्सर यह शिकायत करते रहे हैं कि अपने ईंधन के परिवहन के लिए वे 11,551 किलोमीटर लंबे पाइपलाइन नेटवर्क का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं। सूत्रों ने बताया कि एक ही कंपनी के पास दोनों कारोबार होने की वजह से पैदा हो रही इस तरह की समस्याओं को दूर करने के लिए गेल के विभाजन पर विचार किया जा रहा है।

भूषण पावर एंड स्टील की बोली से पीछे नहीं हट रही जेएसडब्ल्यू, लेकिन धोखाधड़ी की खबरों से परेशान

सरकार इससे पहले गेल के विपणन कारोबार को संभवत: किसी अन्य सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी को बेचने पर विचार कर रही थी, लेकिन अब पाइपलाइन कारोबार को गेल से अलग कर एक कंपनी बनाने और उसकी बहुलांश हिस्सेदारी रणनीतिक निवेशक को बेचने के बारे में सोच रही है। सूत्रों के मुताबिक सरकार अब गेल का विपणन कारोबार जारी रखने पर विचार कर रही है। इसके तहत गैस के बिक्री अनुबंध और शहरी गैस खुदरा कारोबार जारी रहेगा।

सूत्रों का कहना है कि गेल पाइपलाइन कारोबार को एक अलग कंपनी में तब्दील कर उसकी बहुलांश हिस्सेदारी किसी रणनीतिक निवेशक को बेची जा सकती है। इस मामले में कनाडा की संपत्ति प्रबंधन कंपनी ब्रुकफील्ड का नाम भी लिया जा सकता है। इस कंपनी ने हाल ही में मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का 1,480 किलोमीटर पाइपलाइन कारोबार खरीदा है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Govt mulling splitting GAIL to sell pipeline business to strategic investor