ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News BusinessGovt directs sugar mills to not use sugarcane juice for ethanol production to keep prices impact on petrol Business News India

पेट्रोल में मिलाने वाले एथनॉल पर सरकार का कंट्रोल, चीनी की कीमतों पर भी असर, समझें कैसे

बता दें कि केंद्र सरकार के फैसले का असर ईंधन के साथ मिश्रण करने के लिए एथनॉल के स्टॉक पर पड़ सकता है। बता दें कि सरकार का लक्ष्य पेट्रोल में 20 प्रतिशत तक एथनॉल मिलाने का रहा है।

पेट्रोल में मिलाने वाले एथनॉल पर सरकार का कंट्रोल, चीनी की कीमतों पर भी असर, समझें कैसे
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 07 Dec 2023 04:37 PM
ऐप पर पढ़ें

केंद्र सरकार ने चीनी की कीमतों पर नियंत्रण को लेकर मिलों को गन्ने के रस के जरिये एथनॉल का उत्पादन नहीं करने का निर्देश दिया है। इस तरह के एथनॉल का उत्पादन पेट्रोल में मिलाने के लिए किया जाता है। हालांकि, चीनी मिलें पेट्रोल में मिश्रण के लिए बी-हेवी शीरे से एथनॉल का उत्पादन जारी रख सकती हैं। केंद्र सरकार के फैसले का असर ईंधन के साथ मिश्रण करने के लिए एथनॉल के स्टॉक पर पड़ सकता है।

बता दें कि सरकार का लक्ष्य पेट्रोल में 20 प्रतिशत तक एथनॉल मिलाने का रहा है। इसके जरिए सरकार पेट्रोल के आयात को कम करना चाहती है। आयात कम होने की स्थिति में पेट्रोल की कीमतों में भी कटौती होने की संभावना रहती है।

सरकार के फैसले की वजह: दरअसल, महाराष्ट्र और कर्नाटक में चीनी उत्पादन में गिरावट आई है। ऐसे में आशंका है कि आम चुनाव से ठीक पहले चीनी महंगी हो सकती है। सरकार का फोकस चुनाव आचार संहिता लागू होने से पहले देश में पर्याप्त चीनी उपलब्धता पर है। इंडियन शुगर मिल्स एसोसिएशन ने पिछले महीने कहा था कि 2023/24 विपणन वर्ष में चीनी उत्पादन 8 प्रतिशत गिरकर 33.7 मिलियन मीट्रिक टन होने की संभावना है। 

क्या कहा सरकार ने
खाद्य मंत्रालय ने सभी चीनी मिलों और डिस्टिलरियों के प्रबंध निदेशकों (एमडी) और मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) को एक पत्र लिखकर यह निर्देश दिया है। खाद्य मंत्रालय ने पत्र में कहा, “चीनी (नियंत्रण) आदेश 1966 के खंड 4 और 5 के तहत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए सभी चीनी मिलों और डिस्टिलरीज को निर्देश दिया जाता है कि वे तत्काल प्रभाव से ईएसवाई (एथनॉल आपूर्ति वर्ष) 2023-24 में एथनॉल के लिए गन्ने के रस/चीनी के रस का उपयोग न करें।” पत्र के अनुसार, “तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) को बी-हेवी शीरे से प्राप्त एथनॉल की आपूर्ति जारी रहेगी।”

शेयरों में आई गिरावट: इस बीच, गुरुवार को शुगर कंपनियों के शेयरों में गिरावट देखने को मिली। श्री रेणुका शुगर, ईआईडी पैरी, बलरामपुर चीनी मिल्स और बजाज हिंदुस्तान शुगर के शेयर क्रमश: 4.16 प्रतिशत, 6.61 प्रतिशत, 6.74 प्रतिशत और 5.45 प्रतिशत की गिरावट के साथ बंद हुए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें