ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेससरकार इस कंपनी से बेचेगी अपनी हिस्सेदारी, LIC IPO में साइज घटाने और पवन हंस नहीं बिकने के बाद केन्द्र मजबूर

सरकार इस कंपनी से बेचेगी अपनी हिस्सेदारी, LIC IPO में साइज घटाने और पवन हंस नहीं बिकने के बाद केन्द्र मजबूर

सरकार चालू वित्त वर्ष के विनिवेश लक्ष्य (disinvestment target) को पूरा करने के लिए हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड (Hindustan Zinc Ltd) और आईटीसी (ITC) में अपनी हिस्सेदारी बेचने पर विचार कर रही है।

सरकार इस कंपनी से बेचेगी अपनी हिस्सेदारी, LIC IPO में साइज घटाने और पवन हंस नहीं बिकने के बाद केन्द्र मजबूर
Varsha Pathakलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 23 May 2022 09:27 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

सरकार चालू वित्त वर्ष के विनिवेश लक्ष्य (disinvestment target) को पूरा करने के लिए हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड (Hindustan Zinc Ltd) और आईटीसी (ITC) में अपनी हिस्सेदारी बेचने पर विचार कर रही है। दरअसल, पवन हंस, शिपिंग कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, आईडीबीआई बैंक और भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (BPCL) की स्ट्रेटेजिक बिक्री में देरी और भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) में हिस्सेदारी घटाने के बाद सरकार हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड और आईटीसी में हिस्सेदारी बेचने मजबूर कर दिया है।

हिंदुस्तान जिंक और ITC में कितनी है हिस्सेदारी
बता दें कि केंद्र की हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड (HZL) में लगभग ₹37,000 करोड़ की 29.54% हिस्सेदारी है। जबकि आईटीसी का 7.91% हिस्सा यूनिट ट्रस्ट ऑफ इंडिया (एसयूयूटीआई) के स्पेसिफाइड अंडरटेकिंग के जरिए से है। जिसका मूल्य लगभग 27,000 करोड़ रुपये है। बता दें कि NSE पर शुक्रवार को आईटीसी के शेयर 2.29% की गिरावट के साथ 273.60 रुपये पर बंद हुए। 

यह भी पढ़ें- मोदी सरकार के कार्यकाल में खूब उछल रहे शेयर, इन शेयरों से निवेशक हुए मालामाल, 1 लाख बन गए ₹3.30 करोड़

सितंबर में पूरी हो सकती है प्रक्रिया
इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, बिक्री के लिए प्रस्ताव (OFS) और विनिवेश की लीमिट डिटेल्स अभी भी तैयार किया जा रहा है। सरकार को उम्मीद है कि सितंबर तक प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। सरकार ने वित्त वर्ष 2013 के लिए 65,000 करोड़ रुपये के विनिवेश लक्ष्य का अनुमान लगाया है। बता दें कि सरकार ने एलआईसी IPO से महीने की शुरुआत में लगभग ₹20,560 करोड़ जुटाए हैं। निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) ने HZL और आईटीसी में हिस्सेदारी की बिक्री पर इंटरनल चर्चा शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें- गौतम अडानी अबू धाबी की इस तेल कंपनी पर खेलेंगे बड़ा दांव! आ रहा है UAE का सबसे बड़ा IPO

epaper