DA Image
23 जनवरी, 2020|11:45|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अब ट्रेन में खत्म नहीं होगा पानी, समाप्त होने से पहले कोच खुद करेगा अलर्ट

Train

रेलवे ने ऐसी तकनीक विकसित की है जिसमें कोच खुद बतायेगा कि पानी समाप्त होने वाला है और पानी भरने की सुविधा वाले अगले स्टेशन पर प्रभारी तक संदेश पहुंच जायेगा। रेलवे बोर्ड के सदस्य (चल परिसंपत्ति) राजेश अग्रवाल ने बुधवार को बताया कि इस साल के अंत तक सभी यात्री ट्रेनों के कोचों में वाटर सेंसिंग उपकरण लगाया जायेगा। जैसे ही टंकी में पानी आधे से कम रह जायेगा यह सेंसर पानी भरने की सुविधा वाले अगले स्टेशन पर पानी भरने के लिए जिम्मेदार प्रभारी को संदेश भेज देगा। टंकी खाली हो जाने पर उसके खाली होने का संदेश भी जायेगा। 

अग्रवाल ने बताया कि पिछले साल इस परियोजना की शुरुआत की गयी थी और पांच प्रतिशत से अधिक कोचों में सेंसर लग चुके हैं। इस साल अन्य ट्रेनों में भी सेंसर लगाने का काम पूरा हो जायेगा। उन्होंने बताया कि हर ट्रेन के ठहराव के हिसाब से उसमें पानी भरने के लिए नियत स्टेशन अलग-अलग होते हैं। वाटर सेंसिंग उपकरण को पता होता है कि आने वाले किस स्टेशन पर पानी भरा जा सकता है। सिर्फ उसी स्टेशन के प्रभारी के पास पानी भरने का संदेश जायेगा। 

यह भी पढ़ें: निर्भया केस: HC ने दोषी मुकेश के डेथ वारंट पर रोक लगाने से किया इनकार

इसके अलावा आने वाले समय में एसी कोच के अंदर का तापमान एवं आर्द्रता का नियंत्रण भी स्वचालित करने की योजना है जिसकी किसी भी स्थान से निगरानी की जा सकेगी। अग्रवाल ने बताया कि इसके लिए तौर-तरीके एवं डिजाइनिंग आदि तैयार करने का काम पूरा हो चुका है। अभी एसी कोच में तापमान नियंत्रित करने के लिए कर्मचारी होते हैं।

कई बार ऐसा होता है कि ट्रेन शाम के समय एक जगह से चलकर सुबह जब दूसरी जगह पहुंचती है तो मौसम में जमीन आसमान का फर्क होता है। ऐसे में स्वचालित तापमान नियंत्रण प्रणाली से कोच के अंदर का तापमान अपने-आप एक जैसा बना रहेगा। कोच के अंदर लगे सेंसर तापमान के साथ नमी तथा विभिन्न गैसों की मात्रा भी पढ़ सकेंगे और उसके आधार पर यह तय करेंगे कि अंदर कितनी ठंडक या गमीर् की जरूरत है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:good news water will not finish in the train coach alert itself