Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Goldman Sachs said to sell Yes Bank shares what is the suggestion for SBI ICICI HDFC Bank

गोल्डमैन सैक्स ने कहा-बेच दें यस बैंक के शेयर, एसबीआई, ICICI,एचडीएफसी बैंक के लिए क्या है सुझाव

Target price of Yes Bank, SBI, ICICI Bank: ब्रोकरेज ने एसबीआई के लिए 741 रुपये का टार्गेट प्राइस तय किया है। जबकि, इसमें आईसीआईसीआई बैंक का टार्गेट प्राइस 1,068 और यस बैंक के लिए 16 रुपये कर दिया है।

गोल्डमैन सैक्स ने कहा-बेच दें यस बैंक के शेयर, एसबीआई, ICICI,एचडीएफसी बैंक के लिए क्या है सुझाव
Drigraj Madheshia लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीFri, 23 Feb 2024 10:41 AM
हमें फॉलो करें

विदेशी ब्रोकरेज कंपनी गोल्डमैन सैक्स ने यस बैंक के शेयरों को बेचने की सिफारिश की है। उसने इस प्राइवेट बैंक पर अपनी रेटिंग घटाकर 'Sell' कर दी है। इसके अलावा एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक के लिए अपनी रेटिंग 'Buy' से घटाकर 'Neutral' कर दी है। यस बैंक सुबह के सत्र में करीब दो फीसद नीचे 26.60 रुपये पर ट्रेड कर रहा था। एचडीएफसी बैंक में मामूली बढ़त के साथ 1426 रुपये पर था। आईसीआईसीआई बैंक 1062.70 रुपये पर था और एसबीआई गिरावट के साथ 762.25 रुपये पर ट्रेड कर रहा था।

इस ब्रोकिंग फर्म ने एचडीएफसी बैंक पर अपनी 'Buy' रेटिंग बरकरार रखी है, लेकिन बजाज फाइनेंस को Sell से 'Neutral' कर दिया। ब्रोकरेज ने कहा कि इन सभी को पूरे सेक्टर में मजबूत बैलेंस शीट के मद्देनजर मार्केट शेयर बनाए रखने या मार्जिन से समझौता करने की दुविधा का सामना करना पड़ता है।

गोल्डमैन सैक्स ने निजी बैंकों में एचडीएफसी बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, एक्सिस बैंक लिमिटेड, इंडसइंड बैंक और बंधन बैंक पर अपनी 'Buy' रेटिंग बरकरा रखा है। गोल्डमैन सैक्स ने कहा कि उसने एसबीआई की रेटिंग घटाकर न्यूट्रल कर दी है, लेकिन ओनरशिप लेवल को 50 फीसद से नीचे लाने जैसे सेक्टर में सुधार के मोदी सरकार के इरादे को देखते हुए इसे सकारात्मक माना जा सकता है ।

यस बैंक, एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक का टार्गेट प्राइस

ब्रोकरेज ने एसबीआई के लिए 741 रुपये का टार्गेट प्राइस तय किया है। जबकि, इसमें आईसीआईसीआई बैंक का टार्गेट प्राइस 1,068 रुपये और यस बैंक के लिए 16 रुपये कर दिया है। बजाज फाइनेंस के लिए  6,815 रुपये का लक्ष्य रखा है, जबकि एचडीएफसी बैंक के शेयरों का टार्गेट प्राइस 1,915 रुपये किया है।

रेटिंग और टार्गेट प्राइस में बदलाव की वजह: गोल्डमैन सैक्स को जमा वृद्धि के लिए कई बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है और सिस्टम को बैंक-जमा को आकर्षक बनाने के लिए आकर्षक दरों की पेशकश करने की आवश्यकता होगी। फर्म का मानना है कि निजी बैंकों के लिए कुल पीबी वित्त वर्ष 2015 के आधार पर 1.8 गुना के साथ बैंकिंग सेक्टर का वैल्युएशन कंफर्टेबल लेवल पर है। एनबीएफसी के लिए फॉरवर्ड पीबी 1-5 गुना की सीमा में है और पीएसयू एसबीआई के लिए यह स्टैंडअलोन यूनिट के लिए 1.1 गुना है।

गोल्डमैन सैक्स ने कहा है कि शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट जैसे विकल्पों सहित डिपॉजिट रेट्स में कई बाधाएं हैं और कहा कि शॉर्ट टर्म में स्ट्रांग ग्रोथ और प्रॉफिटेबिलिटी की गोल्डीलॉक्स अवधि समाप्त हो गई है। इसने कहा कि एसेट पर रिटर्न आगे चलकर मध्यम होने की संभावना है। गोल्डमैन सैक्स ने अपने कवरेज में बैंकों के लिए कमाई का अनुमान वित्त वर्ष 2025 के लिए 5 फीसद और वित्तवर्ष 2026 के लिए 2 प्रतिशत कम कर दिया है।

(डिस्‍क्‍लेमर: विशेषज्ञों द्वारा दी गई सिफारिशें, सुझाव, विचार और राय उनके अपने हैं, लाइव हिन्दुस्तान के नहीं। यहां सिर्फ शेयर के परफॉर्मेंस की जानकारी दी गई है, यह निवेश की सलाह नहीं है। शेयर बाजार में निवेश जोखिमों के अधीन है और निवेश से पहले अपने एडवाइजर से परामर्श कर लें।)

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें