DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिजनेस › वायदा बाजार: सोना-चांदी वायदा कीमतों में तेजी, कच्चे तेल का भी बढ़ा भाव
बिजनेस

वायदा बाजार: सोना-चांदी वायदा कीमतों में तेजी, कच्चे तेल का भी बढ़ा भाव

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Fri, 23 Jul 2021 02:54 PM
वायदा बाजार: सोना-चांदी वायदा कीमतों में तेजी, कच्चे तेल का भी बढ़ा भाव

मजबूत हाजिर मांग के कारण सटोरियों ने ताजा सौदों की लिवाली की, जिससे स्थानीय वायदा बाजार में शुक्रवार को सोने का भाव 34 रुपये की तेजी के साथ 47,668 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। वहीं, शुक्रवार को चांदी की कीमत 87 रुपये की तेजी के साथ 67,461 रुपये प्रति किलो हो गई। वैश्विक स्तर पर, न्यूयार्क में सोने की कीमत 0.27 फीसद की तेजी के साथ 1,814.1 डॉलर प्रति औंस हो गई। हालांकि न्यूयार्क में चांदी का भाव 0.23 फीसद की तेजी के साथ 25.44 डालर प्रति औंस हो गया।

मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में अगस्त महीने की डिलिवरी के लिए सोने की कीमत 34 रुपये यानी 0.07 फीसद की तेजी के साथ 47,668 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गई। इसमें 5,447 लॉट के लिए कारोबार हुआ। जबकि, चांदी के सितंबर डिलीवरी वाले वायदा अनुबंध का भाव 87 रुपये यानी 0.13 फीसद की तेजी के साथ 67,461 रुपये प्रति किलो हो गया। इस वायदा अनुबंध में 12,017 लॉट के लिए सौदे किए गए।

बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करने से सोना वायदा कीमतों में लाभ दर्ज हुआ। वहीं, चांदी वायदा कीमतों में तेजी आने का कारण घरेलू मांग में तेजी के बीच कारोबारियों द्वारा ताजा सौदों की लिवाली करना था।

हाजिर मांग से कच्चातेल वायदा कीमतों में तेजी

वायदा कारोबार में शुक्रवार को कच्चा तेल की कीमत छह रुपये की तेजी के साथ 5,349 रुपये प्रति बैरल हो गयी।  मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज में कच्चातेल के अगस्त डिलीवरी वाले अनुबंध की कीमत छह रुपये अथवा 0.11 फीसद की तेजी के साथ 5,349 रुपये प्रति बैरल हो गई जिसमें 6,443 लॉट के लिए कारोबार हुआ।  बाजार विश्लेषकों ने कहा कि कारोबारियों द्वारा अपने सौदों का आकार बढ़ाने से कच्चातेल वायदा कीमतों में तेजी आई।

वैश्विक स्तर पर, न्यूयॉर्क में वेस्ट टैक्सास इंटरमीडिएट कच्चे तेल का दाम 0.24 फीसद की गिरावट के साथ 71.74 डालर प्रति बैरल रह गया। वैश्विक मानक माने जाने वाले ब्रेंट क्रूड का दाम 0.18 फीसद की गिरावट के साथ 73.66 डालर प्रति बैरल रह गया।

इनपुट: भाषा

संबंधित खबरें