DA Image
29 अक्तूबर, 2020|1:04|IST

अगली स्टोरी

सोना 45000 तक आएगा या और ऊपर जाएगा, जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

             49 986                                 10

कोरोना वायरस महामारी की वजह से दुनिया भर के शेयर मार्केट में जो गिरावट आई थी, उससे बाजार पूरी तरह उबरते नजर आ रहे हैं।  ज्यादातर शेयर बाजार कोरोना के पहले के दौर में आ चुके हैं या उसके आस-पास हैं। वहीं सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव जारी है। सर्राफा बाजार में सोना अपने ऑल टाइम हाई से 30 सितंबर तक 5684 रुपये प्रति 10 ग्राम तक सस्ता हो चुका है। वहीं चांदी सात अगस्त के अपने उच्च शिखर से 16034 रुपये टूट चुकी है।  तो क्या गोल्ड कोरोना काल से पहले वाली स्थिति यानी 45000 रुपये प्रति 10 ग्राम के आस-पास आ पाएगा? यदि आपको लग रहा है कि शेयर बाजार में तेजी के साथ सोना और सस्ता होगा, तो आपका अंदाजा गलत भी हो सकता है, ऐसा एक्सपर्ट का मानना है।

यह भी पढ़ें: जिसे वेटर की नौकरी के लायक भी नहीं समझा गया, उसने खड़ा कर दिया होटलों का साम्राज्य

जारी रह सकता है उतार- चढ़ाव 

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंसियल सविर्सिज के जिंस शोध के उपाध्यक्ष नवनीत दमानी ने कहा कि हाल के दिनों में सोने का भाव ऊंचाई से गिरकर 50,000 रुपये के दायरे में आया है, जबकि चांदी 60,000 रुपये के दायरे में आ चुकी है। आने वाले समय में इनमें उतार- चढ़ाव जारी रह सकता है। वहीं इस उतार-चढ़ाव पर केडिया कैपिटल के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि स्टिमुलस पैकेज ने शेयर बाजारों के लिए स्टेरॉयड का काम किया। इससे जो तेजी आई, उसे नेचुरल तेजी नहीं कह सकते। जब कोरोना महामारी भारत में आई तो मार्केट गिरने लगे थे।

यह भी पढ़ें: ग्राहकों को लुभाने के लिए किराना दुकानों पर जंग, अब पड़ोस की दुकान पर भी मिलेगी ज्यादा छूट

अजय केडिया इस तरह समझाते हैं, 2007 में सोना 9 हजार रुपए प्रति दस ग्राम के आसपास था, जो 2016 में 31 हजार रुपए प्रति दस ग्राम तक पहुंच गया था। यानी नौ साल में तीन गुना से ज्यादा बढ़ोतरी। यह भी समझना होगा कि जब-जब ब्याज दरें घटती हैं, तब सोने में निवेश बढ़ता है। सोने में ग्रोथ साइकिल में होती है। 2008 से 2013 की साइकिल हो या 2018 से अब तक की साइकिल। सोने के रेट्स अचानक नहीं बढ़े हैं। सितंबर 2018 से इसमें तेजी आने लगी थी। यदि आप 2008 से 2013 तक की अवधि को समझेंगे तो पाएंगे कि आज की स्थिति बहुत ज्यादा अलग नहीं है।

जनवरी से सितंबर तक ऐसी रही सोने और सेंसेक्स की चाल

माह

 सोने कीमत रुपये/ 10 ग्राम

सेंसेक्स
जनवरी 2020 41000 40,943
3 अप्रैल 2020 43936 27,590
24 फरवरी 2020 44,472 40363
15 मई 2020 47067 31,097
31 जुलाई 2020 53743 37,606
7 अगस्त 2020 56254 38040
30 सितंबर 50442 38,067


सोने की कीमतों में जो गिरावट आई है, उसकी वजह है पिछले दो महीनों में रुपए में आई मजबूती। रुपया अभी 73-74 रुपए प्रति डॉलर की रेंज में है। कुछ महीनों पहले 76-77 रुपए प्रति डॉलर तक पहुंच गया था। इससे भी सोने की कीमत कम हुई है। डॉलर में तेजी आएगी तो लॉन्ग टर्म में सोने के दाम और तेजी से बढ़ेंगे। यानी अगले साल तक सोना 60 से 70 हजार रुपए प्रति दस ग्राम तक पहुंच सकता है।

अगस्त में तोड़ दिए सारे रिकॉर्ड

All Time high Gold price

देशभर के सर्राफा बाजारों में सात अगस्त 2020 को गोल्ड का हाजिर भाव 56254 पर खुला। यह ऑल टाइम हाई था। इसके बाद शाम को यह थोड़ी गिरावट के बाद 56126 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर बंद हुआ। जहां तक चांदी की बात करें तो इस दिन यह  76008 रुपये प्रति किलो के रेट से खुली थी और 75013 रुपये पर बंद हुई थी। बता दें चांदी का भाव एमसीएक्स पर 25 अप्रैल 2011 को रिकॉर्ड 73,600 रुपये प्रति किलो तक उछला था, जबकि हाजिर बाजार में चांदी का भाव 2011 में 77,000 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गया था।  सोने का भाव 16 मार्च 2020 को 38,400 रुपये प्रति 10 ग्राम था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:gold price review will gold rate near rs 45000 per 10 gm stock market has reached the level before corona