DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  Gold Price: सोना इस महीने 2364 रुपये चढ़ा, अभी भी सर्वोच्च शिखर से 9808 रुपये है सस्ता, जानें आगे क्या होगा भाव

बिजनेसGold Price: सोना इस महीने 2364 रुपये चढ़ा, अभी भी सर्वोच्च शिखर से 9808 रुपये है सस्ता, जानें आगे क्या होगा भाव

दृगराज मद्धेशिया,नई दिल्लीPublished By: Drigraj Madheshia
Sun, 11 Apr 2021 07:36 AM
Gold Price: सोना इस महीने 2364 रुपये चढ़ा, अभी भी सर्वोच्च शिखर से 9808 रुपये है सस्ता, जानें आगे क्या होगा भाव

कोरोना के फैलने की रिकॉर्डतोड़ रफ्तार के बीच एक बार फिर सोना 50 हजारी बनने की तैयारी कर रहा है। शादी-विवाह के लिए सोना और उससे बने गहने खरीदने वालों के लिए यह बुरी खबर है। सर्राफा बाजारों इस महीने अब तक 24 कैरेट सोना 2364 रुपये प्रति 10 ग्राम महंगा हो चुका है। हालांकि यह अब भी अपने 7 अगस्त 2020 के ऑल टाइम हाई 56254 रुपये से 9808 रुपये सस्ता है। अगर चांदी की बात करें तो सोने की तुलना में इसकी रफ्तार अधिक तेज है। 31 मार्च 2021 के बंद भाव की तुलना में यह 4068 रुपये प्रति किलोग्राम महंगी हो चुकी है। 

यह भी पढ़ें: सिम स्वैपिंग के जरिये हैकर्स कर रहे धोखाधड़ी, बैंक से एसएमएस न मिलने पर हो जाएं अलर्ट

30 साल में सबसे खराब शुरुआत के बाद बढ़ी तेजी

2021 की बात करें तो गोल्ड की पिछले 30 साल में सबसे खराब शुरुआत हुई। जनवरी से ही सोने के रेट में गिरावट का दौर शुरू हुआ, लेकिन अप्रैल में एक बार फिर इसने तेजी पकड़ी है। आपको याद होगा कि कोरोना की पहली लहर और संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान सोना के भाव खूब उछले, वह भी तब जब सर्राफा बाजारों में मांग न के बराबर थी। कमोवेश हालात पिछले अप्रैल की तरह बन रहे हैं।  

इस महीने अबतक ऐसी रही सोने-चांदी की चाल

तारीख सोने का सुबह का भाव Rs/10Gm सोने का शाम का भाव Rs/10Gm चांदी का सुबह का भाव Rs/Kg चांदी का शाम का भाव Rs/Kg
09 अप्रैल 2021 46554 46446 67175 66930
08 अप्रैल 2021 46152 46411 66905 67219
07 अप्रैल 2021 45904 45929 66139 66032
06 अप्रैल 2021 45421 45410 65600 65422
05 अप्रैल 2021 45176 45259 64546 64962
01 अप्रैल 2021 44917 44919 63634 63737
31 मार्च 2021 44228 44190 62727 62862
31 दिसंबर 2020 50123 50202 67282 67383
7 अगस्त 2020 56254 56126 76008 75013

स्रोत: IBJA

क्यों बढ़ रही सोने-चांदी की कीमत

केडिया कैपिटल के डायरेक्टर अजय केडिया Livehindusatn.com के साथ बातचीत में कहते हैं कि पिछले साल गोल्ड की कीमतों में इजाफे की वजह लॉकडाउन, कोरोना के बढ़ते मामले, ब्याज दरों का कम होना, केंद्रीय बैंकों की खरीदारी आदि थी। इस साल कमोवेश हालात वैसे ही हैं। ब्याज दरें अभी कम हैं। रुपया डॉलर के मुकाबले लगातार कमजोर हो रहा है। दुनियाभर में पाबंदियों का एक और दौर शुरू हो चुका है, ऐसे में लोग सुरक्षित निवेश के लिए एक बार सोने की तरफ रुख कर रहे हैं। इस वजह से जून तक सोना 50000 रुपये तक पहुंच सकता है।
 
क्या हुआ था पिछले साल

साल 2020 की शुरुआत में सोने की कीमत 39,100 रुपये प्रति 10 ग्राम और 1,517 अमरीकी डॉलर प्रति औंस के साथ हुई। हालांकि सर्राफा बाजार में 31 दिसंबर को 24 कैरेट सोने का भाव 39240 रुपये पर बंद हुआ था।  महामारी को लेकर शुरुआती झटका अल्पकालिक रहा और सोना 38,400 रुपये पर आ गया, लेकिन इसके बाद यह धीरे धीरे बढ़ता हुआ 56,254 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गया।

कोरोना की तेज हुई रफ्तार

भारत में शुक्रवार को लगातार तीसरे दिन देश में कोरोना के सवा लाख से ज्यादा नए मामले सामने आए। आज कोरोना वायरस ने महामारी के शुरुआत से लेकर अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और महज एक दिन में 1 लाख 44 हजार से अधिक नए पॉजिटिव केस सामने आए। इससे पहले गुरुवार के आंकड़ों में एक लाख 31 हजार नए केस सामने आए थे। इनमें से 83.29 फीसदी मामले महाराष्ट्र-छत्तीसगढ़ सहित दस सर्वाधिक प्रभावित राज्यों से जुड़े हैं।

 

संबंधित खबरें