DA Image
23 अक्तूबर, 2020|4:12|IST

अगली स्टोरी

सोना रिकॉर्ड ऊंचाई से 6000 और चांदी 17100 रुपये लुढ़की, संभलकर करें निवेश

            -                                                                                         14        24

जनवरी से अब तक करीब 25 फीसद रिटर्न देने वाला सोना सर्राफा बाजार में अपने 7 अगस्त के रिकॉर्ड ऊंचाई से करीब 6000 रुपये प्रति 10 ग्राम तक गिर चुका है। वहीं चांदी सबसे ज्यादा चोट खा चुकी है। अब यह पीक से 17100 रुपये प्रति किलो कमजोर हो चुकी है। अगर पिछले तीन दिनों की बात करें तो सोने के भाव में 1293 रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट आई है, वहीं चांदी 6997 रुपये प्रति किलो सस्ती हो गई है।

यह भी पढ़ें: Gold Price Latest: और सस्ता हो गया सोना,चांदी 3 दिन में 7688 रुपये हुई सस्ती

एमसीएक्स पर 6000 रुपये तक सस्ता हुआ सोना

पिछले महीने की रिकॉर्ड ऊंचाई से सोने के दाम अब भी करीब 6000 रुपये प्रति दस ग्राम नीचे हैं। 7 अगस्त को एमसीएक्स पर सोने के दाम 56,000 रुपये प्रति दस ग्राम के पार पहुंच गए थे। वहीं, सर्राफा बाजार में दाम 56,254 रुपये प्रति दस ग्राम के स्तर पर पहुंचा था। अब 50227 रुपये प्रति दस ग्राम पर है। अंगर चांदी की बात करें तो सात अगस्त की सुबह चांदी का हाजिर भाव 76008 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया था, अब इसमें 17100 रुपये की गिरावट आ चुकी है। बुधवार को यह 58908 रुपये पर बंद हुई।

थोड़ी-थोड़ी खरीदारी फायदेमंद

क्या कहते हैं विशेषज्ञ

सोने की कीमतों में इस साल काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। एंजेल ब्रोकिंग के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट (कमोडिटी एंड रिसर्च) अनुज गुप्ता का कहना है कि सोने की कीमत कई बातों पर निर्भर करती है। इसमें डॉलर की अन्य वैश्विक मुद्राओं की तुलना में कीमत, मांग, अर्थव्यवस्था की स्थिति सहित अन्य बातें भी सोने की कीमत तय करने में अहम भूमिका निभाती हैं। वहीं कोरना के टीका को लेकर अभी सबकी नजरें उसी पर टिकी हैं। उन्होंने कहा कि एक तरफ डॉलर के मुकाबले रुपये में तेजी है तो वहीं कोरोना के टीका को लेकर भी सकारात्मक खबरें आ रही हैं। कोरोना का टीका आता है तो अर्थव्यवस्था जल्द पटरी पर आएगी और ऐसे में सोने में निवेश ज्यादा आकर्षक नहीं रह जाएगा। यही वजह है कि कीमतों में गिरावट आ रही है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि टीका को लेकर देरी की खबर सोने के दाम में उछाल की वजह भी बन सकती है।

क्या सोना खरीदना खरीदने का सही समय है

विशेषज्ञों का कहना है कि सोने में गिरावट बढ़ सकती है, क्योंकि सोना नीचे में प्रमुख स्तरों को तोड़ चुका है। उन्होंने कहा कि यह देखना चाहिए कि क्या सोना 1,820 डॉलर या 1,875 के अगले सपोर्ट लेवल को होल्ड कर सकता है या नहीं। यह लंबी अवधि के लिए निवेश करने के लिए अच्छा स्तर हो सकता है। वैश्विक कीमतों के स्तर पर पिछले साल के मुकाबले सोना निवेशकों को करीब 25 फीसदी रिटर्न दे चुका है। ऐसे में संभलकर और थोड़ी-थोड़ी खरीदारी फायदेमंद हो सकती है। वहीं वायदा कारोबार करने वालों के लिए केडिया कैपिटल्स के मैनेजिंग डायरेक्टर अजय केडिया कहते हैं कि एमसीएक्स पर सोना अक्टूबर वायदा में 50,100-49,850 रुपये के लक्ष्य के लिए 50,600 रुपये के भाव पर बिकवाली की जा सकती है वहीं 51000 का स्टॉपलॉस लगाया जा सकता है

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Gold plunged to 6032 rupees and silver 17791 to record highs