Tuesday, January 25, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसपहली छमाही में सोने का आयात तीन गुना से ज्यादा बढ़ा, गोल्ड ईटीएफ में 446 करोड़ रुपये का निवेश आया

पहली छमाही में सोने का आयात तीन गुना से ज्यादा बढ़ा, गोल्ड ईटीएफ में 446 करोड़ रुपये का निवेश आया

नई दिल्ली। एजेंसीDrigraj Madheshia
Mon, 18 Oct 2021 09:52 AM
पहली छमाही में सोने का आयात तीन गुना से ज्यादा बढ़ा, गोल्ड ईटीएफ में 446 करोड़ रुपये का निवेश आया

देश का सोने का आयात चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही अप्रैल-सितंबर, 2021 के दौरान कई गुना बढ़कर 24 अरब डॉलर पर पहुंच गया। वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। देश में सोने की मांग बढ़ने से आयात बढ़ा है। सोने के आयात से चालू खाते के घाटे (कैड) पर असर पड़ता है।

पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में सोने का आयात 6.8 अरब डॉलर रहा था। इस साल सितंबर में सोने का आयात भी कई गुना बढ़कर 5.11 अरब डॉलर हो गया। सितंबर, 2021 में यह 60.14 करोड़ डॉलर रहा था। वहीं दूसरी ओर अप्रैल-सितंबर में चांदी का आयात 15.5 प्रतिशत घटकर 61.93 करोड़ डॉलर रह गया। हालांकि, सितंबर में चांदी का आयात बढ़कर 55.23 करोड़ डॉलर पर पहुंच गया, जो सितंबर, 2020 में 92.3 लाख डॉलर रहा था।

रिकॉर्ड स्तर पर व्यापार घाटा

सोने के आयात में उल्लेखनीय बढ़ोतरी से सितंबर में देश का व्यापार घाटा रिकॉर्ड स्तर पर बढ़कर 22.6 अरब डॉलर हो गया। एक साल पहले समान महीने में यह 2.96 अरब डॉलर रहा था। आयात और निर्यात का अंतर व्यापार घाटा होता है। भारत दुनिया का सबसे बड़ा सोने का आयातक है। सालाना आधार पर भारत 800 से 900 टन सोने का आयात करता है।

रत्न एवं आभूषणों का निर्यात बढ़ा

चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में रत्न एवं आभूषणों का निर्यात बढ़कर 19.3 अरब डॉलर पर पहुंच गया, जो पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में 8.7 अरब डॉलर रहा था। रत्न एवं आभूषण निर्यात संवर्द्धन परिषद (जीजेईपीसी) के चेयरमैन कोलिन शाह ने कहा कि त्योहारी सीजन तथा भारी मांग की वजह से सोने का आयात बढ़ा है। निर्यातकों के संगठन फियो के महानिदेशक अजय सहाय ने भी इसी तरह की राय जताते हुए कहा कि मुख्य रूप से मांग बढ़ने की वजह से सोने के आयात में वृद्धि हुई है।

सितंबर में गोल्ड ईटीएफ में 446 करोड़ रुपये का निवेश आया

गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड कोषों (ईटीएफ) में सितंबर में 446 करोड़ रुपये का निवेश आया। देश में त्योहारी सीजन के मद्देनजर मजबूत मांग के चलते निवेश का यह प्रवाह अभी जारी रहने की उम्मीद है। इससे पिछले महीने गोल्ड ईटीएफ में 24 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश आया था। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एम्फी) के आंकड़ों के अनुसार, जुलाई में गोल्ड ईटीएफ से निवेशकों ने शुद्ध रूप से 61.5 करोड़ रुपये की निकासी की थी।

अबतक शुद्ध रूप से 3,515 करोड़ रुपये का निवेश

गोल्ड ईटीएफ श्रेणी में अबतक शुद्ध रूप से 3,515 करोड़ रुपये का निवेश मिला है। सिर्फ जुलाई ऐसा महीना रहा जबकि इससे निकासी हुई है। ताजा प्रवाह से इस श्रेणी में फोलियो की संख्या सितंबर में 14 प्रतिशत बढ़कर 24.6 लाख पर पहुंच गई, जो अगस्त में 21.46 लाख थी। इस साल अभी तक फोलियो की संख्या में 56 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि त्योहारी सीजन से पहले पीली धातु की कीमतों में 'करेक्शन' से गोल्ड ईटीएफ में निवेश का प्रवाह बढ़ा है।

एलएक्सएमई की संस्थापक प्रीति राठी गुप्ता ने कहा, पिछले महीने गोल्ड ईटीएफ में काफी अच्छा प्रवाह रहा। उतार-चढ़ाव वाले बाजार में निवेशकों के लिए इसमें निवेश करना सुरक्षित विकल्प है जिसकी वजह से इसमें निवेश बढ़ा है। इसके अलावा सोने की बढ़ती कीमतों की वजह से भी निवेशक इसकी ओर आकर्षित हो रहे हैं।

epaper

संबंधित खबरें