DA Image
3 जनवरी, 2021|5:59|IST

अगली स्टोरी

सोने में 4 साल की सबसे बड़ी मासिक गिरावट, जानें क्यूं गिर रहे हैं दाम

shopping dates  gold  car  diwali 2020

कोरोना महामारी रोकने के लिए टीके जल्द आने की उम्मीद से सोने के प्रति निवेशकों का रुझान कम हुआ है। इससे सोने में हाल के दिनों में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। वैश्विक बाजार में भी सोमवार को सोने की कीमत में चार साल की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई।

अमेरिकी सोने के वायदा बाजार में सोमवार को 0.7 फीसदी की गिरावट के साथ 1775.11 डॉलर प्रति औंस रह गई। इस महीने सोने की कीमत में करीब 6 फीसदी की गिरावट आई है। यह नवंबर 2016 के बाद सबसे बड़ी मासिक गिरावट है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में चांदी की कीमतों में भी 2.2 फीसदी की भारी गिरावट आई और यह 22.19 डॉलर प्रति औंस पहुंच गई। इसी तरह प्लेटिनम की कीमत में भी 0.7 फीसदी की गिरावट आई और यह 957.04 डॉलर पर आ गई।

सोना 8000 और चांदी 17 हजार रुपये सस्ती हुई
शुक्रवार को एमसीएक्स पर सोना 0.85 फीसदी की गिरावट के साथ 48106 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर बंद हुआ। 7 अगस्त को सोना 56,254 रुपये के अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। इस तरह भारतीय बाजार में सोना अब तक आठ हजार रुपये प्रति दस ग्राम सस्ता हो चुका है। इसी तरह चांदी ने भी 7 अगस्त को अपना उच्चतम स्तर को छू लिया था। उस समय चांदी 76,008 रुपये प्रति किलोग्राम पहुंच गई थी लेकिन शुक्रवार का इसका भाव 59100 रुपये रह गया। इस दौरान चांदी की कीमत में करीब 17,000 रुपये की गिरावट आई।

Bank Holiday December 2020: बैंकों में छुट्टियां कम पर यहां क्रिसमस पर तीन दिन बंद रहेंगी शाखाएं

पीली धातु में क्या आ रही है गिरावट
कोरोना महामारी से निपटने के लिए टीके के मोर्चे पर सकारात्मक खबरों से सोने की कीमतों में गिरावट आ रही है। सर्राफा बाजार के विशेषज्ञों का कहना है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार और अमेरिका तथा चीन के बीच तनाव कम होने से निवेशक सोने को छोड़कर शेयरों का रुख कर रहे हैं। यही वजह है कि निकट भविष्य में सोने की कीमतों में भारी उछाल की संभावना नहीं है।

शेयर बाजार में फिर से बढ़ा रुझान
संकट के समय सोना निवेशकों की पहली पंसद हमेशा से रहा है। इसके चलते सोने की कीमत में जबदरस्त तेजी कोरोना संकट के दौरान देखने को मिली है लेकिन अब टीके की खबर से निवेशक एक बार फिर से शेयर की ओर रुख कर रहे हैं। वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार की खबर से भी निवेशकों का रुझान फिर से शेयर बाजार की ओर लौट आया है।

लंबी अवधि के लिए अच्छा विकल्प
एंजल ब्रोकिंग में कमोडिटी और करेंसी के डिप्टी वाइस प्रेजिडेंट अनुज गुप्ता ने कहा कि कोरोना के टीके आने की खबर से सोने में गिरावट का दौर है लेकिन लंबी अवधि में यह एक बेहतरी निवेश माध्यम है। अगले एक साल में सोना फिर से 60000 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर पहुंच सकता है।

सोने ने खोई चमक और चांदी ने रंगत, एक हफ्ते में इतना गिर गया भाव

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:gold 4 year biggest monthly decline gold has fallen so much from the highest level