Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Gautam Adani Networth huge down now 7th world richest man after Hindenburg Report - Business News India

एक रिपोर्ट से हिल गया गौतम अडानी का साम्राज्य, अरबपतियों की लिस्ट में लुढ़ककर 7वें नंबर पर आए

Gautam Adani Networth: अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग की रिपोर्ट (Hindenburg Report)  के बाद गौतम अडानी की मुसीबतें बढ़ती ही जा रही हैं। एक ही दिन में अडानी को करीबन 20 अरब डाॅलर का नुकसान हुआ है।

Varsha Pathak लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीFri, 27 Jan 2023 02:52 PM
हमें फॉलो करें

Gautam Adani Networth: अमेरिकी रिसर्च फर्म हिंडनबर्ग की रिपोर्ट (Hindenburg Report) के बाद गौतम अडानी की मुसीबतें बढ़ती ही जा रही हैं। जहां एक तरह आज शुक्रवार को अडानी ग्रुप के शेयरों में 20% तक की तगड़ी गिरावट आई। वहीं, दूसरी तरफ अडानी के नेटवर्थ पर इसका बड़ा असर देखा गया है।फोर्ब्स बिलेनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, अडानी के नेटवर्थ में पिछले 24 घंटों में 17.38% से ज्यादा की गिरावट आई है। यानी एक ही दिन में करीबन 20 अरब डाॅलर (1 लाख 60 हजार करोड़ रुपये) का नुकसान हुआ है। गौतम अडानी का नेटवर्थ 98.5 अरब डाॅलर रह गया है। इसी के साथ अडानी अरबपतियों की लिस्ट में चौथे स्थान से खिसक कर सातवें पायदान पर पहुंच गए हैं। बता दें कि लंबे समय बाद अडानी की संपत्ति 100 अरब डाॅलर के नीचे आई है।

फोर्ब्स के रियल टाइम बिलेनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, गौतम अडानी अब दुनियाभर के अरबपतियों की लिस्ट में 7 वें नंबर पर आ गए हैं। अडानी से पहले अब बिल गेट्स 6वें स्थान, वाॅरेट बफेट 5वें और लैरी एलिसन चौथे स्थान पर आ गए हैं। इस लिस्ट में तीसरे पायदान पर अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस, दूसरे नंबर पर टेस्ला के सीईओ एलन मस्क और पहले पोजिशन पर बर्नार्ड अरनॉल्ट हैं। 

क्या है रिपोर्ट?
अमेरिकी शॉर्ट-सेलर हिंडनबर्ग रिसर्च की 32,000 शब्दों की रिपोर्ट ने अडानी ग्रुप पर 'कारपोरेट दुनिया की सबसे बड़ी धोखाधड़ी' का आरोप लगाया है। रिपोर्ट में अडानी ग्रुप पर शेयरों को मनिप्यूलैशन और अकाउंटिंग फ्रॉड का आरोप है। हालांकि, इन आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए अडानी समूह ने कानूनी कार्रवाई पर विचार करने की बात कही है। 

रिसर्च फर्म ने दी चुनौती
अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से जारी बयान में Hindenburg ने कहा है- अगर अडानी समूह रिपोर्ट के खिलाफ अमेरिका की अदालत में मुकदमा दायर करता है तो रिसर्च फर्म दस्तावेजों की मांग करेगा। अगर अडानी समूह गंभीर है, तो उसे अमेरिका में भी मुकदमा दायर करना चाहिए, जहां हम काम करते हैं। कानूनी खोज प्रक्रिया में हमारे पास दस्तावेजों की एक लंबी सूची है।

सेबी ने अडानी के शेयरों पर बढ़ाई निगरानी
इस बीच, खबर है कि मार्केट रेगुलेटरी सेबी ने  पिछले एक साल में अडानी समूह द्वारा किए गए सौदों की जांच बढ़ा दी है। सोर्स के मुताबिक, सेबी अब हिंडनबर्ग रिसर्च द्वारा जारी रिपोर्ट को स्टडी करेगा और  शुरुआती जांच कर सकता है। बता दें कि आज शुक्रवार को अडानी ग्रुप के सभी शेयरों में बड़ी गिरावट है। अडानी एंटरप्राइजेज, अडानी पोर्ट्स, अडानी विल्मर, अडानी ग्रीन एनर्जी, अडानी टोटल, अडानी ट्रांसमिशन, अडानी पावर समेत सातों लिस्टेड कंपनियों के शेयरों में लगभग 20 पर्सेंट तक की बड़ी गिरावट देखी जा रही है। इससे पहले बुधवार को जब हिंडनबर्ग की रिपोर्ट सामने आई थी, उस दिन भी शेयरों में भारी गिरावट देखी गई थी। पिछले दो कारोबारी दिन अडानी ग्रुप की कंपनियों का कुल मार्केट कैप लगभग 4 लाख करोड़ रुपये घट गया है।  

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें