ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसस्टॉक्स का तगड़ा रिटर्न, फिर भी अडानी ग्रुप पर दांव लगाने से हिचक रहे म्यूचुअल फंड्स!

स्टॉक्स का तगड़ा रिटर्न, फिर भी अडानी ग्रुप पर दांव लगाने से हिचक रहे म्यूचुअल फंड्स!

अडानी समूह की कंपनियों के शेयर ने निवेशकों को तगड़ा रिटर्न दिया है। शेयरों के शानदार परफॉर्मेंस की बदौलत ही गौतम अडानी ने दुनिया के दूसरे सबसे रईस अरबपति तक के मुकाम को हासिल किया है।

स्टॉक्स का तगड़ा रिटर्न, फिर भी अडानी ग्रुप पर दांव लगाने से हिचक रहे म्यूचुअल फंड्स!
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 27 Sep 2022 02:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

बीते 3 साल में गौतम अडानी समूह की कंपनियों के स्टॉक्स ने बंपर रिटर्न दिया है लेकिन इसी दौरान म्यूचुअल फंड‌्स ने दूरी बनाई है। मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक अडानी समूह में म्यूचुअल फंड‌्स का निवेश कम हुआ है और वह दांव लगाने से बचते नजर आए हैं।  

क्या कहते हैं आंकड़े: मिंट द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक, म्यूचुअल फंड‌्स के पास अडानी समूह के मार्केट कैपिटल का सिर्फ 0.76% हिस्सा है। अडानी एंटरप्राइजेज और अडानी पोर्ट्स को छोड़कर केवल कुछ फंड हाउसों ने अदानी समूह की अन्य कंपनियों में सक्रिय निवेश किया है। कुछ फंड मैनेजर्स का कहना है कि अडानी समूह की कंपनियों के भारी वैल्यूएशन की वजह ने उन्हें दूर होना पड़ा है।

स्टॉक्स ने दिया है बंपर रिटर्न: पिछले तीन वर्षों में अडानी समूह की कंपनियों का मार्केट कैपिटल 1.6 ट्रिलियन रुपये से 20 ट्रिलियन रुपये के स्तर को छु लिया है। समूह के छह शेयरों में से चार ने इस अवधि में 18-46 गुना के दायरे में रिटर्न दिया है। अडानी समूह की कंपनियों के शेयर रिटर्न की बदौलत ही गौतम अडानी ने दुनिया के दूसरे सबसे रईस अरबपति तक के मुकाम को हासिल किया है। 

ये पढ़ें-पहले 52 हफ्ते का बेस्ट परफॉर्मेंस दिया, अब हर शेयर पर 1 बोनस शेयर बांट रही ये कंपनी

क्यों है अहम: अकसर म्यूचुअल फंड‌्स ऐसे स्टॉक्स की तलाश में रहते हैं जिनका फ्यूचर सही हो और रिटर्न सही मिल रहा हो। हालांकि, यह ऐसा मामला है जहां स्टॉक्स ने तो बेहतरीन प्रदर्शन दिया है लेकिन म्यूचुअल फंड‌्स ने शेयरों से दूरी बनाई है। आपको बता दें कि बीते कुछ माह में कई ऐसी रिपोर्ट आई हैं, जिसमें दावा किया गया है कि अडानी समूह की कंपनियों पर भारी भरकम कर्ज है।

epaper