ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Businessgail did this for the first time in the world saved a lot of money with time in

गेल ने दुनिया में पहली बार काम किया ऐसा, समय के साथ बचा लिया ढेर सारा पैसा

बीच समुद्र में एक जहाज से दूसरे जहाज में एलएनजी हस्तांतरण दुनिया में पहली बार हुआ। गेल के जहाज के लिए जहाज की यात्रा 54 दिन से घटकर लगभग 27 दिन रह गई।  गेल को 10 लाख डॉलर से अधिक का लाभ हुआ है।

गेल ने दुनिया में पहली बार काम किया ऐसा, समय के साथ बचा लिया ढेर सारा पैसा
Drigraj Madheshiaएजेंसी,नई दिल्लीTue, 14 Nov 2023 06:13 AM
ऐप पर पढ़ें

देश की सबसे बड़ी गैस कंपनी गेल ने पोत परिवहन लागत और कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने के लिए जहाज से दूसरे जहाज में तरलीकृत प्राकृतिक गैस (LNG) का हस्तांतरण किया है। सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी कारोबार को बढ़ावा देने के लिए अनूठे कदम उठा रही है और यह उसी का हिस्सा है। कंपनी के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

गेल ने अमेरिका से 58 लाख टन सालाना एलएनजी के ऑर्डर को लेकर अनुबंध किया है। कंपनी इस मात्रा को एलएनजी जहाजों के माध्यम से भारत लाती है। जहाज आमतौर पर अमेरिका के सबाइन दर्रे से स्वेज नहर और जिब्राल्टर के रास्ते भारत तक एलएनजी परिवहन करने के लिए आने-जाने को मिलाकर लगभग 19,554 समुद्री मील की दूरी तय करता है। इस यात्रा में लगभग 54 दिन लगते हैं और लगभग 15,600 टन कार्बन का उत्सर्जन होता है।

उत्सर्जन को आमतौर पर नवीनतम तकनीक का उपयोग करके या कार्गो के गंतव्य को बदलकर नियंत्रित किया जाता है। गेल ने कार्बन उत्सर्जन में कमी लाने के लिए अनूठा कदम उठाया है। इस व्यवस्था के तहत दोनों पक्षों के समुद्री मार्ग के अनुकूल रास्ते को अपनाया जाता है। 

यह भी पढ़ें: गेल को 1400 करोड़ रुपये से ज्यादा का मुनाफा, आमदनी में 14% गिरावट, डबल रेटिंग अपग्रेड से नई ऊंचाई पर पहुंचे शेयर

अधिकारियों ने कहा कि कंपनी ने हाल ही में किराये पर लिए गए जहाज कैस्टिलो डी सैन्टिस्टेबन ने अमेरिका से एलएनजी का एक जहाज 'लोड' किया, लेकिन बीच रास्ते में, इसने कार्गो को कतर गैस के एक अन्य चार्टर्ड जहाज अल घर्राफा में हस्तांतरित कर दिया। बीच समुद्र में एक जहाज से दूसरे जहाज में एलएनजी हस्तांतरण दुनिया में पहली बार किया गया है। 

एक अधिकारी ने कहा, ''यह एक बड़े पारंपरिक एलएनजी जहाज और क्यू-फ्लेक्स एलएनजी जहाज के बीच दुनिया में पहली बार एलएनजी का हस्तांतरण हुआ है।''  कतरगैस जहाज कार्गो को उतारने के लिए गुजरात के दाहेज के लिए रवाना हुआ। इसे मूल रूप से गेल के जहाज के जरिये उतारने की योजना थी। इसका जहाज जिब्राल्टर से अगले लदान बंदरगाह पर लौट आया।

आधा हुआ यात्रा का समय

अधिकारियों ने कहा कि इसके परिणामस्वरूप लगभग 8,736 समुद्री मील दूरी कम हुई है। यह 7,000 टन कार्बन उत्सर्जन के बराबर है। इसके अलावा, इसके परिणामस्वरूप गेल के चार्टर्ड जहाज के लिए जहाज की यात्रा 54 दिन से घटकर लगभग 27 दिन रह गई।  एक अधिकारी ने कहा, ''इस कदम से गेल को 10 लाख डॉलर से अधिक का लाभ हुआ है।''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें