ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News BusinessFuture Retail heads for liquidation as lenders fail to get suitable buyer Business News India

बिग बाजार ब्रांड वाली दिवालिया कंपनी को नहीं मिला खरीदार, ₹30000 करोड़ का है कर्ज

आपको बता दें कि फ्यूचर ग्रुप की इस रिटेल कंपनी के खिलाफ दिवालिया कार्यवाही 20 जुलाई, 2022 को शुरू की गई थी। फ्यूचर रिटेल पर करीब 30,000 करोड़ रुपये का कर्ज है।

बिग बाजार ब्रांड वाली दिवालिया कंपनी को नहीं मिला खरीदार, ₹30000 करोड़ का है कर्ज
Deepak Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 11 Nov 2023 05:50 PM
ऐप पर पढ़ें

फ्यूचर ग्रुप की दिग्गज रिटेल कंपनी फ्यूचर रिटेल अब लिक्विडिटेशन की ओर बढ़ रही है। जानकारी के मुताबिक कंपनी के समाधान पेशेवर (आरपी) ने राष्ट्रीय कंपनी कानून पंचाट के मुंबई पीठ के समक्ष लिक्विडिटेशन शुरू करने के लिए आवेदन किया है।

नहीं मिल सका उचित खरीदार: दरअसल, कर्ज में डूबी फ्यूचर रिटेल के ऋणदाताओं को कोई उचित खरीदार नहीं मिल सका है। बता दें कि कंपनी के कॉरपोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया (सीआईआरपी) को पूरा करने की समय सीमा में चार बार विस्तार किया गया था। इसके बावजूद फ्यूचर रिटेल में कंपनियों की दिलचस्पी नहीं दिखी और एकमात्र खरीदार के रूप में स्पेस मंत्रा उभरी थी। अब स्पेस मंत्रा के समाधान योजना को फ्यूचर रिटेल के लेंडर्स की समिति (सीओसी) ने खारिज कर दिया है। फ्यूचर रिटेल की ओर से शेयर बाजार को यह जानकारी दी गई है। 

फ्यूचर रिटेल ने पिछले महीने बताया था कि स्पेस मंत्रा द्वारा प्रस्तुत की गई 550 करोड़ रुपये की बोली सीओसी की ई-वोटिंग प्रक्रिया में आवश्यक संख्या में वोट प्राप्त करने में विफल रही। एनसीएलटी ने कॉरपोरेट दिवाला समाधान प्रक्रिया को पूरा करने के लिए फ्यूचर रिटेल को चार विस्तार दिए थे और अंतिम तिथि 30 सितंबर, 2023 थी। इसके बाद समय सीमा में कोई विस्तार नहीं हुआ।

कंपनी पर कितना कर्ज: जानकारी के लिए बता दें कि फ्यूचर रिटेल के खिलाफ दिवालिया कार्यवाही 20 जुलाई, 2022 को शुरू की गई थी। फ्यूचर रिटेल पर करीब 30,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी ने बिग बाजार, ईज़ीडे और फूडहॉल जैसे ब्रांडों के तहत हाइपरमार्केट सुपरमार्केट और होम सेगमेंट दोनों में कई खुदरा आउटलेट्स संचालित किए। इसके लगभग 430 शहरों में 1,500 से अधिक आउटलेट थे। यह रिटेल, होलसेल, लॉजिस्टिक और वेयरहाउसिंग सेगमेंट में काम करने वाली 19 फ्यूचर ग्रुप कंपनियों का हिस्सा थी।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें