DA Image
20 अक्तूबर, 2020|8:32|IST

अगली स्टोरी

एक अक्टूबर से सरसों के तेल में किसी भी तरह की मिलावट बैन, किसानों को होगा फायदा

india s edible oils export rises 54  to 80 765 tonnes  photo  bloomberg

सरकार ने सरसों के तेल में किसी भी अन्य खाद्य तेल की मिलावट पर एक अक्टूबर से रोक लगा दी है। यानी एक अक्टूबर से लोगों को अब शुद्ध सरसों का तेल मिलेगा। सरसों के तेल में चावल की भूसी, सोयाबीन और पाम ऑयल के तेल की मिलावट नहीं की जा सकेगी। खाद्य तेल उद्योग की दिग्गज हस्तियों ने सरकार के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि इससे देश में सरसों दाने का उत्पादन बढ़ेगा और खाद्य तेलों के आयात में कमी होगी। 

यह भी पढ़ें: सब्जियों के बाद महंगी दालों के लिए भी रहें तैयार, अरहर दाल की कीमत थोक में 100 रुपये के पार

फॉर्च्यून ब्रांड के तहत खाद्य तेल बेचने वाली अडाणी विल्मर और धारा ब्रांड के तहत खाद्य तेलों का विपणन करने वाली मदर डेयरी ने इस फैसले की तारीफ करते हुए कहा कि इससे किसानों और उपभोक्ताओं दोनों को फायदा होगा।  अडाणी विल्मार के उप मुख्य कार्यपालक अधिकारी अंगशु मल्लिक ने कहा, ''यह एक अच्छा फैसला है। उपभोक्ताओं को अब शुद्ध सरसों का तेल मिलेगा। सरसों के तेल में चावल की भूसी, सोयाबीन और पाम ऑयल के तेल की मिलावट की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस फैसले के बाद अब पांच लाख टन अतिरिक्त सरसों के तेल की जरूरत होगी, जिसे मिलाया जा रहा था।

यह भी पढ़ें: अक्टूबर में हो रहे कई बदलाव, जो डालेंगे आपकी जेब पर सीधा प्रभाव

12-15 लाख टन अतिरिक्त सरसों की जरूरत

मल्लिक ने कहा, ''पांच लाख टन सरसों के तेल का उत्पादन करने के लिए हमें 12-15 लाख टन अतिरिक्त सरसों की जरूरत होगी।  उन्होंने कहा कि इस फैसले से राजस्थान और अन्य राज्यों में सरसों का रकबा बढ़ेगा और किसानों की आय में इजाफा होगा।  देश में रबी (सर्दियों के मौसम) की फसल के दौरान सरसों का उत्पादन 2019-20 के फसल वर्ष (जुलाई-जून) में 91.16 लाख टन था।

सरसों के तेल के नाम पर बिकता है मिलावटी तेल

कोविड-19 महामारी की वजह से कम मांग पर पिछले वर्ष में 2019-20 तेल वर्ष (नवंबर-अक्टूबर) में भारत का समग्र वनस्पति तेल आयात लगभग 134-135 लाख टन घट सकता है।  मल्लिक ने सुझाव दिया कि खाद्य नियामक को इस फैसले के अनुपालन को सुनिश्चित करने के लिए सतर्क रहना होगा और अवैध रूप से सम्मिश्रण रोकना होगा।मदर डेयरी के एक प्रवक्ता ने कहा, ''यह निश्चित रूप से एक सकारात्मक फैसला है और ये हर तरह से उपभोक्ताओं, किसानों और ईमानदारी से शुद्ध सरसों का तेल बेचने वालों के हित में है, क्योंकि उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश जैसे सरसों तेल के बड़े बाजारों में उपभोक्ताओं को गुमराह किया गया था और सरसों के तेल के नाम पर मिलावट वाला तेल बेचा जा रहा था।

यह भी पढ़ें: Bank Holiday October 2020: अक्टूबर में 15 दिन बैंक रहेंगे बंद,  छुट्टियों की देखें लिस्ट

किसानों को फसल की बेहतर कीमत मिलेगी

उन्होंने कहा कि मदर डेयरी ने हमेशा शुद्ध सरसों के तेल की वकालत की है, जो सही स्वाद और सुगंध देता है। सरसों तेल में मिलावट से गुणवत्ता और स्वाद दोनों प्रभावित होते हैं।  उन्होंने कहा कि इसके अलावा दूसरे खाद्य तेलों की मिलावट पर प्रतिबंध से किसानों को फसल की बेहतर कीमत मिल सकेगी। हाल में भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के खाद्य सुरक्षा आयुक्त को एक पत्र भेजकर कहा था कि ''भारत में किसी भी अन्य खाद्य तेल के साथ सरसों के तेल की मिलावट एक अक्टूबर 2020 से प्रतिबंधित है। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:from October 1 adulteration ban on mustard oil farmers will benefit