DA Image
30 मार्च, 2021|8:23|IST

अगली स्टोरी

सोने में गिरावट बढ़ाएगी गोल्ड लोन लेने वालों की परेशानी, जानें कैसे

gold loan

कोरोना से पैदा हुए नकदी संकट को पार पाने में गोल्ड लोन बड़ा सहारा बना था। इसी को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गोल्ड लोन का लोन टू वैल्यू (एलटीवी) रेशियो 75 फीसदी से बढ़ाकर 90 फीसदी कर दिया था। इससे नकदी संकट से जूझ रहे लोगों को गोल्ड लोन लेने पर अधिक रकम बैंकों से मिला था लेकिन अब गिरती कीमत से परेशानी बढ़ सकती है।

एक निजी बैंक के अधिकारी ने अपनी पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि जिस तेजी से सोने की कीमत में गिरावट आ रही है, उससे एलटीवी ऊपर की ओर जाएगा। इससे लोन पर जोखिम बढ़ेगा। ऐसी स्थिति में बैंक शेयर बाजार की तरह लोन लेने वाले से मार्जिन मनी मांग सकते हैं। बैंक जब भी लोन देते हैं तो एग्रीमेंट में एक क्लॉज होता है जिसके तहत एलटीवी बढ़ने पर उपभोक्ता को कर्ज का कुछ हिस्सा भुगतान करने या अतिरिक्त कोलेट्रल जमा करने को कह सकते हैं। हालांकि, अभी स्थिति उतनी गंभीर नहीं हुई है। अगर, आगे हुआ तो आरबीआई जरूर इसको लेकर कदम उठाएगा।

एलटीवी बढ़ने का इस तरह असर

बैंकिंग सेक्टर के विशेषज्ञ अश्विनी राणा ने हिन्दुस्तान को बताया कि लोन-टू-वैल्यू (एलटीवी) लोन की राशि का वह रेश्यो होता है, जो सोने या प्रॉपर्टी की कुल वैल्यू पर दिया जा सकता है। गोल्ड लोन में इसे ऐसे समझ सकते हैं कि सितंबर, 2020 में किसी बैंक ने 2 लाख सोने के मूल्य पर 1.60 लाख रुपये का लोन दिया। यानी, एलटीवी अनुपात 80 फीसदी हुआ। अब सोने की कीमत में गिरावट आने से बैंक के पास जमा गोल्ड की कीमत 1.80 लाख रुपये रह गई। इस हालात में एलटीवी बढ़कर 90 फीसदी हो गई। ऐसे हालात में बैंक ग्राहकों को पैसा जमा करने या कोलेट्रल बढ़ाने को कह सकते हैं। इससे कर्जदारों की परेशानी बढ़ सकती है।

Gold Price Latest : सोने-चांदी के फिर गिरे भाव, ऑल टाइम हाई से 12000 रुपये सस्ता हुआ सोना

मर्जिन कॉल मांग सकते हैं बैंक

बैंकिंग विशेशज्ञों के अनुसार, बैंक तेजी से गिर रहे सोने की कीमत पर नजर बनाए हुए हैं। अभी स्थिति गंभीर नहीं हुई है लेकिन आने वाले समय में अगर कीमत और गिरती है तो बैंक गोल्ड लोन लिए लोगों से मार्जिन मनी मांग सकते हैं। वहीं, एक और नुकसान नए गोल्ड लोन लेने की तैयारी कर रहें लोगों को हो सकता है। बैंक सोने की गिरती कीमत को देखते हुए लोन की रकम में कमी कर देंगे।

42,000 तक गिर सकता है सोना

केडिया कमोडिटी के मैनेजिंग डायरेक्टर अजय केडिया ने हिन्दुस्तान को बताया कि सोने में गिरावट का दौर आगे भी जारी रह सकता है। ऐसा इसलिए कि जिस तेजी से क्रूड महंगा हो रहा है और बॉन्ड-यील्ड बढ़ रहा है वह सोने पर दबाब बढ़ाने का काम करेगा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना 1650 डॉलर प्रति औंस तक आ सकता है। केडिया के अनुसार, 7 अगस्त को सोना अपने उच्चतम स्तर 56200 रुपए प्रति 10 ग्राम पर पहुंच गया था। हालांकि, नए साल शुरू होने से सोने की कीमत में गिरावट बनी हुई है। यह गोल्ड लोन पर दबाव बढ़ाने का काम करेगा।

Petrol Diesel Price: स्टॉक में रखा सस्ता तेल क्यों नहीं बेचते? सऊदी ने उलटे भारत को दी सलाह, कहा- उत्पादन नहीं बढ़ाएंगे

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Fall in gold will increase the problems of gold loan takers know how