External Affairs Minister S Jaishankar on RCEP said its Better to not sign bad agreement - RCEP पर विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले- खराब समझौते से बेहतर था समझौता नहीं करना DA Image
7 दिसंबर, 2019|7:15|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

RCEP पर विदेश मंत्री एस जयशंकर बोले- खराब समझौते से बेहतर था समझौता नहीं करना

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि भारत ने क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) पर हस्ताक्षर नहीं करने का फैसला नए समझौते से होने वाले लाभ-हानि की सोच-समझकर की गई गणना के आधार पर लिया।

external-affairs-minister-s  jaishankar

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को कहा कि भारत ने क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) पर हस्ताक्षर नहीं करने का फैसला नए समझौते से होने वाले लाभ-हानि की सोच-समझकर की गई गणना के आधार पर लिया। एस जयशंकर ने कहा किे खराब समझौता करने से अच्छा समझौता नहीं करना था।भारत वर्षों तक वार्ता करने के बाद भी मूल चिंताएं दूर नहीं होने पर हाल ही में चीन समर्थित क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी से बाहर आ गया था। इस दौरान प्रधानमंत्री ने बैंकॉक में कहा था कि प्रस्तावित समझौता सभी भारतीयों के जीवन और आजीविका पर प्रतिकूल प्रभाव डालेगा।

Read Also: महाराष्ट्र: शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस गठबंधन के खिलाफ न्यायालय में याचिका

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चौथे 'रामनाथ गोयनका स्मृति व्याख्यान' में बोलते हुए समझौते पर हस्ताक्षर नहीं करने के भारत के फैसले का जिक्र किया और कहा कि भारत ने बहुत अंत तक बातचीत की और फिर, प्रस्ताव के बारे में सोचने समझने के बाद फैसला लिया। उन्होंने कहा, 'और तय हुआ कि इस समय खराब समझौते से अच्छा है कि कोई समझौता न किया जाए। यह भी जानना महत्वपूर्ण है कि आरसीईपी पर फैसले का मतलब क्या है। इसका मतलब 'एक्ट ईस्ट पॉलिसी' से कदम वापस खींचना नहीं है, जोकि किसी भी मामले में दूर तक और समकालीन इतिहास में गहराई से निहित है।'

Read Also: केरल की वामपंथी सरकार से जानिए क्यों खुश हुए केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

एस जयशंकर ने कहा, 'हमारा सहयोग काफी दूर तक फैला हुआ है और यह एक फैसला हमारी बुनियादों को कमजोर नहीं करेगा। भारत का आरसीईपी के कुल 15 देशों में से 12 देशों के साथ मुक्त व्यापार समझौता है। न ही इसका हमारी भारत-प्रशांत पहुंच से वास्तव में कोई संबंध है जोकि आरसीईपी की सदस्यता से काफी आगे है।' विदेश मंत्री ने कहा, 'हमने बैंकॉक में जो देखा वह नए समझौते में प्रवेश से होने वाले लाभ-हानि की सोच-समझकर की गई गणना थी।'

पाइए देश-दुनिया की हर खबर सबसे पहले www.livehindustan.com पर। लाइव हिन्दुस्तान से हिंदी समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारा News App और रहें हर खबर से अपडेट।    
    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:External Affairs Minister S Jaishankar on RCEP said its Better to not sign bad agreement