Hindi Newsबिज़नेस न्यूज़Expectation from Budget Modi government may make savings account interest up to Rs 50000 tax free

बजट से उम्मीद: बचत खाते के 50000 रुपये तक के ब्याज को टैक्स फ्री कर सकती है मोदी सरकार

Budget 2024: अंतरिम बजट में वित्तमंत्री आम लोगों के लिए बैंक के बचत खाते में रखे पैसे पर मिलने वाले ब्याज पर एक वित्तीय वर्ष में मिलने वाली टैक्स फ्री ब्याज की सीमा 10 हजार रुपये से बढ़ा सकती है।

Drigraj Madheshia नई दिल्ली, हिन्दुस्तान ब्यूरो।, Mon, 29 Jan 2024 06:15 AM
हमें फॉलो करें

आगामी एक तारीख को पेश होने वाले अंतरिम बजट में वित्तमंत्री आम लोगों के लिए बैंक के बचत खाते में रखे पैसे पर मिलने वाले ब्याज पर एक वित्तीय वर्ष में मिलने वाली टैक्स फ्री ब्याज की सीमा 10 हजार रुपये से बढ़ा सकती हैं। इस नियम के तहत साल भर में 10 हजार रुपये तक अर्जित ब्याज को करमुक्त माना जाता है। अनुमान है कि सरकार लोगों को राहत देने के उद्देश्य से इस सीमा को बढ़ाकर 50 हजार रुपये कर सकती है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पहली फरवरी 2024 को छठी बार बजट पेश करेंगी। निर्मला सीतारमण मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का आखिरी बजट पेश करने वाली है क्योंकि उसके बाद देशभर में लोकसभा चुनाव होने वाले हैं। वर्ष 2019 के आम चुनाव से पहले पेश किए गए अंतरिम बजट में भी सरकार ने आम आदमी को टैक्स और मानक कटौती में राहत की सौगात दी थी। माना जा रहा है कि इस बार में भी सरकार इस दिशा में घोषणाएं कर सकती है।

क्या है नियम: आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80टीटीए के अनुसार यदि किसी व्यक्ति (60 वर्ष से कम उम्र) या हिंदू अविभाजित परिवार को बैंकों, डाकघर या सहकारी समितियों में रखे गए ब्याज खाते से ब्याज आय होती है तो कुल आय से 10,000 रुपये तक की कटौती का दावा किया जा सकता है। यहां ये बताना जरूरी है कि करदाता एफडी, रेकरिंग डिपॉजिट, पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट जमा आदि पर मिलने वाले ब्याज ब्याज के लिए इस कटौती का फायदा नहीं उठा सकते हैं। वहीं 60 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए धारा 80टीटीबी के तहत 50,000 रुपये तक की अलग कटौती मिलती है, जो बचत खाते, एफडी और अन्य ब्याज आय पर लागू होती है।

कटौती 2012 से शुरू की गई थी

सरकार ने छोटी बचत को बढ़ावा देने के लिए बजट 2012 में धारा 80टीटीए के तहत कटौती शुरू की थी। हालांकि, तब से कटौती की सीमा बरकरार है। माना जा रहा है कि सरकार इस कटौती को मौजूदा 10,000 रुपये से बढ़ाकर 50,000 रुपये कर सकती है। सरकार इस पर विचार कर सकती है , क्योंकि इसमें लंबे समय से कोई बदलाव नहीं हुआ है।

अभी बचत खाते पर ब्याज बहुत कम: अभी एक बचत खाते में सालाना 3-4% का ब्याज मिलता है। एफडी पर 7 फीसदी से 8.60 फीसदी का ब्याज मिल रहा है। हालांकि, कुछ निजी बैंक बचत खाते पर सात फीसदी तक ब्याज दे रहे हैं लेकिन उसके लिए खाते में एक तय सीमा से अधिक पैसा होना चाहिए।

 जानें Hindi News , Business News की लेटेस्ट खबरें, Share Market के लेटेस्ट अपडेट्स Investment Tips के बारे में सबकुछ।

ऐप पर पढ़ें