DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिजनेस  ›  EPFO: दो अलग-अलग UAN को जोड़ने के लिए अपनाएं ये तरीका 
बिजनेस

EPFO: दो अलग-अलग UAN को जोड़ने के लिए अपनाएं ये तरीका 

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली Published By: Tarun Singh
Wed, 21 Jul 2021 06:31 PM
EPFO: दो अलग-अलग UAN को जोड़ने के लिए अपनाएं ये तरीका 

यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (UAN) एक 12 डिजिट की संख्या है, जो कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) द्वारा भविष्य निधि खाते वाले प्रत्येक कर्मचारी को आवंटित की जाती है। किसी कर्मचारी को आवंटित यह नंबर नौकरी में बदलाव के बावजूद पूरे समय समान रहता है। जब कोई कर्मचारी नौकरी बदलता है, तो ईपीएफओ ईपीएफ खाता आईडी की एक नई सदस्य पहचान संख्या आवंटित करता है, जो यूएएन से जुड़ा होता है। कई बार जॉब बदलने की वजह से लोगों के कई पीएफ अकाउंट हो जाते हैं। आम तौर पर हर नियोक्ता अपना अलग पीएफ अकाउंट खुलवा देता है। ईपीएफओ ने यह सुविधा शुरू की है कि अगर आप चाहें तो दो अकाउंट को मिला सकते हैं।

जेब ढीली करने को रहिए तैयार, इस महीने से ATM से पैसा निकालना होगा महंगा, डेबिट और क्रेडिट पर देना होगा अधिक शुल्क 

पहला तरीका

पिछले यूएएन को ब्लॉक करने और मौजूदा बैलेंस को सक्रिय यूएएन में ट्रांसफर करने के लिए आपको अपने वर्तमान नियोक्ता को सूचित करना होगा या ईपीएफ को लिखना होगा। कर्मचारी को ईपीएफ खाते को अवरुद्ध यूएएन से जोड़ने के लिए सक्रिय खाते में ट्रांसफर करने के लिए दावा दायर करना होगा। इस मुद्दे को हल करने के लिए, ईपीएफओ एक सत्यापन करेगा। अपने वर्तमान और पिछले यूएएन के साथ uanepf@epfindia.gov.in पर एक ईमेल भेजें।

दूसरा तरीका

ऑनलाइन ट्रांसफर दावा दायर करने के लिए स्थानांतरण के लिए अनुरोध पर क्लिक करें। वहां पर कैप्चा दर्ज करें और पिन हासिल करें। पिन दर्ज करने के बाद, ऑनलाइन दावा आवेदन जमा किया जा सकता है। पहचान प्रक्रिया पूरी होने के बाद उसे निष्क्रिय कर दिया जाएगा। यूएएन के स्वत: निष्क्रिय हो जाने के बाद पुराना ईपीएफ खाता नए यूएएन से लिंक हो जाएगा। आपको पुराने यूएएन के निष्क्रिय होने की स्थिति के बारे में सूचित करने वाला एक एसएमएस प्राप्त होगा।

दो यूएएन मिलने के कारण

कर्मचारी अपना पिछला नम्बर नहीं बताता – जब कोई कर्मचारी अपनी नौकरी बदलता हैं, तो उसे अपने पिछले यूएएन और पीएफ खाता नम्बर बताना चाहिए। यदि वह ये जानकारी नहीं देता हैं, तो नया नियोक्ता, उसका नया खाता खोल देता हैं। पिछले संस्थान/ कंपनी द्वारा नौकरी छोड़ने की तिथि नहीं बताना – आपके पिछले संस्थान/ कंपनी को इलेक्ट्रॉनिक चालान और रिटर्न में नौकरी छोड़ने की तारीख का उल्लेख करना चाहिए। यदि यह जानकारी सही समय पर प्रदान नहीं की जाती हैं, तो नई कंपनी कर्मचारी को एक नया नम्बर दे देती हैं।

ईपीएफओ ने मई में 9.20 लाख सदस्य जोड़े, कोरोना की दूसरी लहर बेअसर

संबंधित खबरें