Economic crisis deepens in the world Europe along with America and China also suffer - विश्व में आर्थिक संकट गहराया, अमेरिका, चीन के साथ यूरोप भी बेहाल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विश्व में आर्थिक संकट गहराया, अमेरिका, चीन के साथ यूरोप भी बेहाल

भारतीय अर्थव्यवस्था पहले से ही मंदी की चपेट में है। इसी बीच भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने विश्व व्यापार में और भी गिरावट की आशंका व्यक्त की है।

world-economic-slowdown jpg

भारतीय अर्थव्यवस्था पहले से ही मंदी की चपेट में है। इसी बीच भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने विश्व व्यापार में और भी गिरावट की आशंका व्यक्त की है। शीर्ष बैंक ने अपनी मौद्रिक नीति रिपोर्ट में कहा है कि भविष्य के संकेतों से पता चलता है कि इस साल विश्व व्यापार में और गिरावट आने की आशंका है। आरबीआई ने कहा, 'वैश्विक व्यापार में मंदी, जो 2018 के उत्तरार्ध में शुरू हुई, 2019 में भी जारी है। आगे के लिए भी संकेत मिल रहे हैं कि विश्व व्यापार 2019 में और भी मंद हो सकता है।' अमेरिका में वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर घटी है।

Read Also: Ford Diwali offers: इन कारों पर कंपनी दे रही भारी छूट

अमेरिका की जीडीपी भी लुढ़ककर 2 फीसदी पर पहुंची
अमेरिका की जीडीपी 2019 की दूसरी तिमाही में घटकर दो फीसदी पर पहुंच गई है।आरबीआई ने आगे कहा कि ब्रिक्सिट और व्यापार तनाव के बीच अनिश्चितताओं के चलते यूरो क्षेत्र की जीडीपी वृद्धि दर भी 2019 की दूसरी तिमाही में धीमी हुई है। गिरते निर्यात के बीच ऑटो उद्योग में आए संकट के कारण जर्मन अर्थव्यवस्था भी साल की दूसरी तिमाही में संकुचित हुई है। तीसरी तिमाही में प्रवेश करने के दौरान भी इसकी रफ्तार संतोषजनक नहीं है। यहां कारखानों की गतिविधि में लगातार नौवें महीने गिरावट दर्ज की गई है। इसके साथ ही दूसरी तिमाही में उद्योग और कृषि गतिविधियों के निराशाजनक प्रदर्शन से इटली का सकल घरेलू उत्पाद भी सिकुड़ा है।

Read Also: मजबूत विदेशी संकेतों से घेरलू शेयर बाजार में लौटी लिवाली

चीन की अर्थव्यस्था पिछले 27 वर्षों में सबसे कमजोर
अमेरिका-चीन के बीच व्यापारिक तनाव में वृद्धि और वैश्विक मांग में आई गिरावट के बीच जापानी अर्थव्यवस्था पूर्ववर्ती तिमाही की तुलना में दूसरी तिमाही में धीमी गति से बढ़ी है। ब्रेक्सिट अनिश्चितता के बाद अप्रैल में कार संयंत्रों के जल्दी बंद होने के कारण विनिमार्ण गतिविधि में गिरावट की वजह से ब्रिटेन की वास्तविक जीडीपी भी दूसरी तिमाही में प्रभावित हुई है। अमेरिका के साथ व्यापारिक तनाव व वैश्विक मांग कम होने से पड़ोसी देश चीन की अर्थव्यवस्था लगभग 27 वर्षों में साल की दूसरी तिमाही के दौरान सबसे कमजोर रही है। इसके साथ ही रूस, इंडोनेशिया व थाईलैंड जैसे देशों को भी मंदी का सामना करना पड़ रहा है।

पाइए देश-दुनिया की हर खबर सबसे पहले www.livehindustan.com पर। लाइव हिन्दुस्तान से हिंदी समाचार अपने मोबाइल पर पाने के लिए डाउनलोड करें हमारा News App और रहें हर खबर से अपडेट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Economic crisis deepens in the world Europe along with America and China also suffer