DA Image
29 मई, 2020|7:24|IST

अगली स्टोरी

लॉकडाउन के चलते 30 जून तक बढ़ी इन कामों की डेडलाइन

दुनिया भर में तबाही मचा रही कोरोना महामारी से वे देश भी लाचार हैं, जिन्हें अपनी ताकत का गुमान था, तकनीक पर नाज था और अर्थव्यवस्था उड़ान भर रही थी। चीन से निकला  कोविड-19 ने अमेरिका, इटली, स्पेन से लेकर भारत तक को हिला कर रख दिया है। सरकारों ने लोगों की जान बचाने से लेकर अर्थव्यवस्था को डूबने से बचाने के साथ-साथ अपने नागरिकों की जेब का भी ख्याल रख रही हैं। इसी के क्रम में भारत में कोरोना वायरस को देखते हुए लागू लॉकडाउन के चलते हाल ही में कई कामों के लिए आखिरी तिथि बढ़ाकर 30 जून 2020 की गई है, जो पहले 31 मार्च 2020 थी। ये काम इस तरह हैं..

30 जून तक टैक्स सेविंग

अगर 30 जून तक किसी भी ऐसी स्कीम या प्लान में निवेश करते हैं, जिसमें आईटी एक्ट के तहत टैक्स छूट मिलती है, तो उस निवेश पर आप इनकम टैक्स रिटर्न में क्लेम कर सकते हैं। जैसे LIC, PPF, NPS आदि स्कीम में 30 जून तक निवेश करके टैक्स छूट का लाभ लिया जा सकता है। 30 जून तक किए गए निवेश से वित्त वर्ष 2019—20 के लिए ही टैक्स छूट का लाभ ले सकेंगे। इस निवेश पर दो वित्त वर्ष के लिए क्लेम नहीं कर सकते हैं।  LIC की पुरानी पॉलिसी पर प्रीमियम, मेडिक्लेम, PPF, NPS जैसी योजनाओं पर 30 जून तक किए गए पेमेंट भी इसमें शामिल हैं

आयकर रिटर्न भरने का मौका अब 30 जून तक

वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आयकर रिटर्न भरने का मौका अब 30 जून 2020 तक है। साथ ही आईटीआर के लिए लेट पेमेंट्स के लिए ब्याज दर को 12 फीसदी से घटाकर 9 फीसदी कर दिया गया है।

  • विवाद से विश्वास स्कीम को भी 30 जून 2020 तक बढ़ा दिया गया है. इस नई डेडलाइन तक योजना के तहत 10 फीसदी का अतिरिक्त चार्ज भी नहीं देना होगा, जिससे पहले 31 मार्च 2020 तक ही छूट थी।
  • वहीं 30 जून 2020 तक देर से भरे गए टीडीएस के लिए ब्याज दर को घटाकर 9 फीसदी कर दिया गया है। अभी यह दर 18 फीसदी है।

यह भी पढ़ें: अप्रैल 2020 में कुल 14 दिन बैंक रहेंगे बंद, देखें छुट्टियों की लिस्ट

  • मार्च, अप्रैल और मई के लिए जीएसटी रिटर्न भरने के लिए समय सीमा को बढ़ाकर 30 जून 2020 कर दिया गया है। 5 करोड़ रुपये से कम सालाना टर्नओवर वाली कंपनियों के लिए लेट जीएसटी रिटर्न भरने पर कोई ब्याज, लेट फीस व पेनल्टी नहीं लगेगी।
  • 5 करोड़ रुपये से ज्यादा के टर्नओवर वाली कंपनियों पर पहले 15 दिन के लिए कोई लेट फीस व पेनल्टी नहीं लगेगी, लेकिन 15 दिन के बाद उनके लिए ब्याज, पेनल्टी या लेट फीस 9 फीसदी की दर पर होगी। इसके अलावा कंपो​जीशन स्कीम का लाभ लेने के लिए भी डेडलाइन 30 जून 2020 कर दी गई है.
  • पैन-आधार लिंकिंग डेडलाइन को भी बढ़ाकर 30 जून 2020 कर दिया है।
     
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Deadline of Tax saving income tax returns gst vivad se vishwas scheme increased till June 30 due to lockdown corona pandemic