DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंकों का फंसा कर्ज हो सकता है कम, 8% तक आने की उम्मीद

New NPA Rules: RBI mega resolution overhaul

वसूली बढ़ने से देश में बैंकों का फंसा कर्ज (एनपीए) चालू वित्त वर्ष के अंत तक कम होकर 8 प्रतिशत पर आ सकता है। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने यह अनुमान लगाया है।

बैंकों में सकल एनपीए का स्तर मार्च 2018 में बकाया कर्ज के 11.5 प्रतिशत था जो मार्च 2019 में घटकर 9.3 प्रतिशत पर आ गया। क्रिसिल ने कहा, इस वित्त वर्ष 2019-20 में बैंकों की संपत्ति गुणवत्ता में निर्णायक रूप से बदलाव आना चाहिए। मार्च 2020 तक सकल एनपीए 8 प्रतिशत पर आ जाने का अनुमान है जो दो साल में 3.5 प्रतिशत कमी दर्शाता है। कर्ज बिगड़ने के नए मामलों में कमी के साथ साथ एनपीए खातों में वसूली में वृद्धि से ऐसा संभव हो सका है। एजेंसी के अनुसार सरकारी बैंकों का एनपीए मार्च 2018 के 14.6 प्रतिशत के स्तर से 4 प्रतिशत कम होकर मार्च 2020 तक 10.6 प्रतिशत पर आ जाने का अनुमान है।
 

छोटी बचत पर घट सकती हैं ब्याज दरें, जानें कितना हो सकता है आपको नुकसान 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Crisil said that Banks NPA will come down to 8 percent