DA Image
2 नवंबर, 2020|7:20|IST

अगली स्टोरी

दिवाली गिफ्ट पर चलेगी कोरोना की कैंची, सस्ते उपहार खोज रही कंपनियां

फीकी रहेगी कॉर्पोरेट की दिवाली, एक हजार से 50 हजार रुपये तक के उपहार दिवाली पर बांटती हैं कंपनियां

                                                                                                                        50

नौकरी और कारोबार से होते हुए इस बार कोरोना की मार दिवाली उपहारों पर भी पड़ने वाली है। कोरोना की वजह से आर्थिक चुनौतियों का सामना कर रही कंपनियां इस बार त्योहारों पर होने वाले खर्च में 20 से लेकर 50 फीसदी तक की कटौती करने जा रही हैं। कंपनियां दिवाली पर एक हजार से 50 हजार रुपये तक के उपहार बांटती रही हैं। लेकिन इस बार उनके लिए एक हजार रुपया भी अधिक महंगा लग रहा है। उद्योग विशेषज्ञों का कहन है कि कंपनियां 500 रुपये से भी कम वाले उपहारों के ज्यादा ऑर्डर दे रही हैं। ऐसे में इस बार कॉर्पोरेट की दिवाली फीकी रहने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें: मोबाइल बिक्री में सैमसंग ने शियोमी को पछाड़ा, भारत का चीन के साथ तनाव बढ़ने का मिला फायदा

महंगे उपहार की रही है परंपरा

दिवाली के अवसर पर कंपनियां महंगे उपहार बांटती रही हैं। कॉर्पोरेट ने पिछले साल तक किचन के समान जिसमें कीमती बर्तन और अन्य घरेलू इलेक्ट्रॉनिक उत्पाद हैं दिवाली पर बांटे हैं। लेकिन इसबार हालात बदले नजर आ रहे हैं। उद्योग के विशेषज्ञों के मुताबिक दिवाली के मौके पर एक हजार रुपये से 50 हजार रुपये तक उपहार बांटे जाते रहे हैं।

सूखे मेवे की मांग भी घटी

कई कंपनियां दिवाली के अवसर पर सूखे मेवे यानी ड्राई फ्रूट्स भी बांटती हैं। कंपनियां इनकी खरीदारी बड़ी मात्रा में करती हैं। लेकिन कोरोना की मार की वजह से इस बार इनपर भी आफत है। उद्योग विशेषज्ञों का कहना है कि सूखे मेवे की मांग इस दिवाली 60 फीसदी कम रहने की उम्मीद है। इसके लिए कंपनियां काफी पहले से ऑर्डर दे दिया करती हैं, लेकिन महज 15 दिन रह जाने के बावजूद 40 फीसदी से भी कम ऑर्डर अभी तक मिले हैं।

सस्ते उपहार खोज रही कंपनियां

सूखे मेवे को उपहार के तौर पर पैक करवाने में भी कॉर्पोरेट को करीब एक हजार रुपये प्रति पैकेट की लागत आती है। जबकि बेडशीट जैसे घरेलू उपयोग वाले बेहतरीन गुणवत्ता वाले उत्पाद की लागत 1500 रुपये से अधिक आती है। उद्योग सूत्रों का कहना है कि इस बार कंपनियां 500 रुपये से कम का त्योहारी पैकेट पर ज्यादा जोर दे रही हैं।

कोरोना ने खर्च घटाने को मजबूर किया

देश में तीन माह तक लॉकडाउन रहने के बाद अर्थव्यवस्था को धीरे-धीरे खोला गया है। लेकिन कंपनियों का कहना है कि नुकसान की भरपाई इतनी जल्दी नहीं होने वाली है। ऐसे में वह हर तरह के खर्च में कटौती को मजबूर हैं जिसमें इस बार दिवाली उपहार भी शामिल है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corporate Diwali will be faded companies reduced budget by 50 percent