DA Image
1 जून, 2020|2:39|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के कहर से आर्थिक मंदी की ओर दुनिया, दिग्गज निवेशक जिम रोजर्स बोले-आगे और बुरा वक्त देखने को मिल सकता है

jim rogers

कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण एशियाई और यूरोपीय बाजारों में गिरावट जारी है।  इस साल की पहली तिमाही भी महामारी के कारण शेयर बाजारों के लिए खराब रही है। दुनिया मंदी की कगार पर है। लाखों लोग नौकरी गवां चुके हैं। करोड़ों लोगों पर छंटनी की तलवार है। कोविड-19 से दुनिया की कई बड़ी अर्थव्वस्थाएं तबाही के कगार पर हैं। यह यहीं नहीं रुकने वाला है। अभी और भी बुरे दिन आने वाले हैं। यह कहना है दिग्गज निवेशक जिम रोजर्स का। रोजर्स होल्डिंग्स इंक के चेयरमैन का कहना है कि बहुत बड़ी गिरावट के बाद शेयर बाजार में देखी जा रही यह तेजी कुछ समय के लिए जारी रह सकती है। लेकिन, बुरा दौर आना बाकी है।

तीन तरह से पड़ेगी बाजार पर मार 

रोजर्स कहना है कि कोरोना वायरस के चलते बाजार पर तीन तरह से मार पड़ेगी। पहला, अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान हो रहा है। दूसरा, कर्ज बहुत ज्यादा बढ़ जाएगा। अंत में, अभी ब्याज की कम दरें बढ़ने के बाद काफी चोट पहुंचाएंगी। रोजर्स कहा, "अगले दो साल में मैं अपनी जिंदगी में बाजार की सबसे बड़ी मंदी देखने जा रहा हूं।" साल 2008 की आर्थिक मंदी के बाद बीती तिमाही बाजार के लिए सबसे खराब रही। दुनियाभर में सरकारों ने अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिए बड़ा निवेश किया। केंद्रीय बैंकों ने आनन-फानन में ब्याज दरों को घटा दिया।

यह भी पढ़ें: Market Live: सेंसेक्स में 1200 से ज्यादा अंकों की गिरावट, निफ्टी पर भी कोरोना का प्रभाव, बैंकों के शेयरों पर भारी दबाव

यह पहली बार नहीं है जब रोजर्स ने बाजार में मंदी की आशंका जताई है। रोजर्स ने साल 1970 में जॉर्ज सोरोस के साथ मिलकर क्वांटम फंड की शुरुआत की थी। उन्होंने साल 2018 में मंदी का आशंका जताई थी। उनकी बातें सही होती दिख रही हैं, क्योंकि लॉकडाउन के चलते कामकाज ठप होने से कई कंपनियों पर कर्ज का बोझ बढ़ जाएगा। उन्होंने कहा, "इसमें कोई शक नहीं कि जब भी मंदी की आहट सुनाई देती है।

यह भी पढ़ें: पीएनबी, SBI,बीओबी ने दी राहत, तीन महीने नहीं लेंगे EMI, कुछ बैंकों ने ब्याज भी छोड़ा

कम कर्ज वाली कंपनियों में निवेशकों की दिलचस्पी बढ़ जाती है, क्योंकि इनके दिवालिया होने के आसार कम होते हैं। जिन कंपनियों के पास मार्केट हिस्सेदारी अधिक होती है, उनकी मजबूती भी अधिक होती है, बशर्ते उनका कर्ज कम हो। उन्होंने कहा कि फिलहाल उन्होंने अमेरिकी शेयरों में काफी निवेश किया है। कुछ निवेश चीन और रूस के शेयरों में है। वह जापान के विषय में सोच रहे हैं।

पिटे हुए सेक्टर्स के शेयरों पर नजर
उन्होंने बताया कि वे कुछ पिटे हुए सेक्टर्स के शेयरों पर नजर रखे हुए हैं। उन्हें कुछ संकेतों को बेहतर होने का इंतजार है। चीन और वैश्विक स्तर पर उनके रडार पर टूरिज्म, ट्रांसपोर्ट, एयरलाइंस और कृषि सेक्टर के शेयर मौजूद हैं। उन्होंने कहा, "चीन की अर्थव्यवस्था फिर खड़ी हो रही है। लोग काम पर लौट रहे हैं। फैक्ट्रियां, रेस्त्रां दोबारा खुल रहे हैं। मैं जिंदगी की तरफ देख रहा हूं। जिंदगी ऐसी नहीं है कि एक झटके में पटरी पर लौट आएं।"

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Coronation havoc may lead to recession in the world named investor Jim Rogers said worse time to come