Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिजनेसकोरोना के नए वेरिएंट से सहमे निवेशक, बार-बार क्यों बिगड़ रहा बाजार का मूड?

कोरोना के नए वेरिएंट से सहमे निवेशक, बार-बार क्यों बिगड़ रहा बाजार का मूड?

दीपक कुमार,नई दिल्लीDeepak Kumar
Fri, 26 Nov 2021 12:10 PM
कोरोना के नए वेरिएंट से सहमे निवेशक, बार-बार क्यों बिगड़ रहा बाजार का मूड?

इस खबर को सुनें

दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस के एक नए स्वरूप का पता चला है। इस खबर का असर भारतीय शेयर बाजार पर भी देखने को मिला है। सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन सेंसेक्स 1300 अंक  या 2.25 फीसदी तक लुढ़क गया। वहीं, निफ्टी ने 405 अंकों की गिरावट देखी। कारोबार के दौरान निफ्टी 17,130 अंक तक नीचे आ गया। 

सेंसेक्स 4500 अंक से ज्यादा टूटा: अगर पिछले डेढ़ महीने के पैटर्न को देखें तो शेयर बाजार में भारी गिरावट आ चुकी है। 19 अक्टूबर को सेंसेक्स 62245.43 अंक के उच्चतम स्तर पर था, जो अब 57,600 अंक के लेवल पर आ चुका है। कहने का मतलब ये है कि करीब डेढ़ महीने के भीतर सेंसेक्स 4500 अंक से ज्यादा टूट चुका है। सवाल है कि आखिर क्यों शेयर बाजार गोते लगा रहा है। कम से कम इतना तो साफ है कि ये गिरावट सिर्फ कोरोना वायरस के वेरिएंट की वजह से ही नहीं आई है। इसके पीछे कई और फैक्टर भी काम कर रहे हैं। 

क्यों डर है निवेशकों में : ये सच है कि कोरोना के नए वेरिएंट की वजह से इकोनॉमी रिकवरी को झटका लगने की आशंका है। यही वजह है कि निवेशकों के बीच डर का माहौल अब ज्यादा हो गया है। नए वेरिएंट की आहट से एशियाई बाजारों में भी हाहाकार मचा हुआ है। वहीं, दुनियाभर के अलग-अलग हिस्से में लॉकडाउन या इसकी आहट ने भी चिंताएं बढ़ाई हैं। इसके अलावा एक फैक्टर निवेशकों की मुनाफावसूली भी है। दरअसल, साल के आखिरी महीने में कई निवेशक मुनाफावसूली पर जोर दे रहे हैं। इसके अलावा विदेशी निवेशक भी शेयर बेचकर निकल रहे हैं। मुनाफावसूली की ये कवायद क्रिसमस और न्यू ईयर सेलिब्रेशन के लिए हो रही है। लगभग हर साल शेयर बाजार में ऐसे हालात बनते हैं। 

हालांकि, कोरोना के नए वेरिएंट ने चिंता बढ़ा दी है। कई एक्सपर्ट का मानना है कि अगर वेरिएंट का विस्तार होता है तो शेयर बाजार में मार्च-अप्रैल 2020 की तरह हालात पैदा हो सकते हैं। बता दें कि इंपीरियल कॉलेज लंदन के विषाणु विज्ञानी डॉ टॉम पीकॉक ने इस सप्ताह की शुरुआत में अपने ट्विटर अकाउंट पर कोरोना वायरस के नए स्वरूप (बी.1.1.529) का विवरण पोस्ट किया था। उसके बाद वैज्ञानिक इस स्वरूप पर गौर कर रहे हैं।

हालांकि ब्रिटेन में इसे चिंता पैदा करने वाले स्वरूप की श्रेणी में अभी औपचारिक रूप से वर्गीकृत नहीं किया गया है। दुनिया भर के वैज्ञानिक तेजी से फैलने के संकेतों के लिए नए स्वरूप पर अब गौर करेंगे। इस बीच, भारत में भी कोरोना के नए रूप को लेकर सरकार अलर्ट हो गई है।

epaper

संबंधित खबरें