DA Image
29 अक्तूबर, 2020|4:20|IST

अगली स्टोरी

कोरोना इंपैक्ट: जमाखोरी बंद, अब जरूरत भर का सामान खरीद रहे लोग

80% हुआ हेल्थ और इम्यूनिटी उत्पाद की हिस्सेदारी एचयूएल में, 6 महीने लॉकडाउन के बाद अब बाजार धीरे-धीरे खुलने शुरू हुए

shopping in pandemic

कोरोना महामारी का डर उपभोक्ताओं में तेजी से खत्म हो रहा है। इसके संकेत उपभोक्ताओं के खरीददारी के तरीके से पता चला है। उपभोक्ता कोरोना से पूर्व की तरह सिर्फ अब जरूरत का सामान ही खरीद रहे हैं। सामान का भंडारण (जमाखोरी) नहीं कर रहे हैं। मार्केट रिसर्च कंपनी निल्सन की रिपोर्ट से यह जानकारी मिली है। रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना संकट के कारण नौकरी गंवाने या वेतन कटौती का सामना कर रहे उपभोक्ता ब्रांडेड और क्वालिटी उत्पादों की जगह लोकल प्रोडक्ट को तवज्जो दे रहे हैं। उपभोक्ताओं में वैल्यू फॉर मनी उत्पादों (अच्छे और सस्ते) की समझ बढ़ी है। उपभोक्ता हेल्थ प्रोडक्ट, स्वच्छता और इम्यूनिटी (प्रतिरक्षा) बूस्टर उत्पादों पर खर्च बढ़ा रहे हैं।

कोरोना संकट में ओला-उबर मॉडल का सहारा ले रहीं कंपनियां, 24 फीसद कंपनियां बदलेंगी सैलरी स्ट्रक्चर

सस्ते उत्पाद पहली पसंद बने

रिपोर्ट के अनुसार, कोरोना संकट ने भयंकर बेरोजगारी और आर्थिक अनिश्चितता का माहौल बनाया है। इससे खर्च और खरीदारी के तरीके में बड़ा बदलाव देखने को मिला है। लॉकडाउन के बाद खरीदारों का ब्रांड के प्रति दिलचस्पी कम हुई है। वह ऐसे उत्पाद को पसंद कर रहे हैं जो बेहतर क्वालिटी के साथ कम कीमत में उपलब्ध हैं। यह एफएमसीजी सेक्टर और दुकानदारों के लिए एक अवसर के तौर पर भी है। आने वाले दिनों में छोटी कंपनियों की उत्पादों की मांग बढ़ेगी और दुकानदारों की कमाई भी अधिक होगी।

घरेलू उत्पादों की बढ़ी मांग

लॉकडाउन के बाद जो बड़ा बदलाव देखने को मिला है वह यह है कि चावल, दाल, साबुन, शहद, आटा और नूडल्स जैसे उत्पादों में ब्रांड की जगह लोकल लेबल (घरेलू) उत्पादों की मांग बढ़ी है। इसकी वजह ब्रांडेड उत्पादों के मुकाबले ये उत्पाद सस्ते में उपलब्ध होना है। एक और बड़ा बदलाव जुलाई महीने में देखने को मिला वह कि हेल्थ प्रोडक्ट, स्वच्छता और इम्यूनिटी (प्रतिरक्षा) बूस्टर उत्पादों की मांग तेजी से बढ़ी है। रिपोर्ट के अनुसार, लोगों ने अपने स्वास्थ्य के प्रति पहले के मुकाबले ज्यादा सचेत हो गए हैं।

कंपनियों में नए प्रोडक्ट उतारने की होड़

कोरोना के कारण एक ओर जहां कंपनियों को नुकसान हुआ है वहीं नए उत्पाद लॉन्च करने का अवसर भी दिया है। इसका फायदा उठाकार एफएमसीजी कंपनियां नए-नए उत्पाद लॉन्च कर रही है। आईटीसी ने पिछले 5 महीनों में 40 नए प्रोडक्ट लॉन्च किए हैं। इनमें सब्जियां और फर्श साफ करने वाले उत्पाद और इम्युनिटी बेवरेज शामिल हैं। विप्रो कंज्यूमर केयर ने अप्रैल 2020 से अभी तक कई नए प्रोडक्ट बाजार में उतारा है। कंपनी ने इस दौरान साबुन, हैंडवॉश, सैनिटाइजर, डिसइनफेक्टेंट्स, एंटी जर्म डिटरजेंट्स और फैब्रिक कंडीशनर्स लॉन्च किए हैं। इसके साथ ही दूसरी भी छोटी-बड़ी एफएमसीजी कंपनियों ने बाजार के अनुरूप बाजार में उत्पाद उतारी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona Impact People Buying Needed Items Hoarding Closed Now